1. Home
  2. भारत
  3. राजनीति
  4. राहुल गांधी काले धन पर संसद में बयान क्यों नहीं देते: रवि शंकर प्रसाद

राहुल गांधी काले धन पर संसद में बयान क्यों नहीं देते: रवि शंकर प्रसाद

नयी दिल्ली: काला धन जमाख़ोर पर कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी के बयान पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए केंद्रीय मंत्री रवि शंकर प्रसाद ने आज कहा कि राहुल गांधी को इस तरह का बयान सदन में

PTI [Published on:30 Nov 2016, 5:26 PM IST]
राहुल गांधी काले धन पर संसद में बयान क्यों नहीं देते: रवि शंकर प्रसाद - India TV

नयी दिल्ली: काला धन जमाख़ोर पर कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी के बयान पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए केंद्रीय मंत्री रवि शंकर प्रसाद ने आज कहा कि राहुल गांधी को इस तरह का बयान सदन में देना चाहिये। उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी को चर्चा में दिलचस्पी है या चर्चा के नियमों में?

ग़ौरतलब है कि राहुल गांधी ने सरकार पर आरोप लगाया है कि वह आयकर कानून में संशोधन करके काला धन के जमाख़ोरों की मदद कर रही है। 

प्रसाद ने कहा, "राहुल गांधी ये बातें सदन के अंदर भी कर सकते हैं। वह चर्चा से बचना क्यों चाहते हैं? क्यों? अगर उन्हें अपना बयान पढ़ने में आसानी होती है तो तो वो भी पढ़ें लेकिन इतने दिनों के बाद आज वे सदन में आते हैं और चले जाते हैं। उन्हें चर्चा में दिलचस्पी है या चर्चा के नियमों में?

कांग्रेस सहित तमाम विपक्षी दल नोटबंदी पर पूरी चर्चा के दौरान पीएम मोदी की मौजूदगी मांग कर रहे हैं। वे नियम 56 के तहत चर्चा की भी मांग कर रहे हैं। इस नियम के तहत चर्चा के बाद मतदान का प्रावधान है।  

संसद भवन के बाहर नियम 56 के तहत चर्चा की भी मांग पर प्रसाद ने कहा, "जहां तक मतदान का सवाल है तो देश ने जनादेश दिया है...BJP ने गुजरात में सूपड़ा साफ किया, महाराष्ट्र, असम और मध्य प्रदेश में चुनाव में बहुत अच्छा प्रदर्शन किया। वे बंगाल और त्रिपुरा में हार गए....आकर चर्चा करो।"  

इसके पहले कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने आज सरकार पर आरोप लगाया कि आयकर कानून में संशोधन कर वह काला धन जमा करने वालों का सहयोग कर रही है। उन्होंने कहा कि अब आधा अघोषित धन उन्हें लौटा दिया जाएगा। उन्होंने संसद के बाहर कहा कि सरकार ने फिर से आधा काला धन जमाखोरों को लौटा दिया है। 

आयकर कानून (दूसरा संशोधन) विधेयक कल लोकसभा में पारित किया गया जिसमें नोटबंदी लागू होने के बाद कोई भी व्यक्ति कर चुकाकर अपने काले धन को वैध बना सकता है। विधेयक के मुताबिक जो लोग बैंकों को काला धन की जानकारी देंगे उन्हें उपकर और जुर्माने सहित 50 फीसदी कर देना होगा।

You May Like

Write a comment

Promoted Content