1. Home
  2. भारत
  3. राजनीति
  4. लोकसभा की कार्यवाही कल तक के लिए स्थगित

लोकसभा की कार्यवाही कल तक के लिए स्थगित

नई दिल्ली: लोकसभा में बुधवार को नोटबंदी और नगरोटा में हुए आतंकवादी हमले को लेकर जोरदार हंगामा हुआ, जिसके चलते सदन की कार्यवाही कल तक के लिए स्थगित कर दी गई। सदन की कार्यवाही

India TV News Desk [Updated:30 Nov 2016, 3:49 PM IST]
लोकसभा की कार्यवाही कल तक के लिए स्थगित

नई दिल्ली: लोकसभा में बुधवार को नोटबंदी और नगरोटा में हुए आतंकवादी हमले को लेकर जोरदार हंगामा हुआ, जिसके चलते सदन की कार्यवाही कल  तक के लिए स्थगित कर दी गई। 

सदन की कार्यवाही शुरू होते ही कांग्रेस, तृणमूल कांग्रेस और अन्य विपक्षी पार्टियों ने दोनों मुद्दों पर बहस की मांग की और जोरदार हंगामा किया।

लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन ने हंगामे के बावजूद प्रश्नकाल चलाने की कोशिश की, लेकिन विपक्षी सदस्यों के बार-बार व्यवधान उत्पन्न करने के कारण पहले महाजन को सदन की कार्यवाही दोपहर 12 बजे तक के लिए स्थगित करना पड़ी।

इसके बाद सदन की कार्यवाही शुरू होने पर कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा कि उनकी पार्टी नोटबंदी के मुद्दे पर बहस चाहती है, क्योंकि इसकी वजह से लोगों को परेशानी हो रही है।

खड़गे ने अध्यक्ष से किसी भी ऐसे नियम के तहत बहस शुरू करने की मांग की, जिसके तहत वोटिंग का प्रावधान हो। इससे पहले कांग्रेस नियम 56 के तहत बहस के लिए तैयार नहीं थी।

तृणमूल नेता सुदीप बंदोपाध्याय ने कहा कि उनकी पार्टी किसी भी ऐसे नियम के तहत बहस के लिए तैयार है, जिसमें वोटिंग का प्रावधान हो। 

हालांकि सरकार ने इसे अस्वीकार करते हुए कहा कि मुद्दे पर वोट के विभाजन से गलत संदेश जाएगा।

अध्यक्ष ने विरोध कर रहे सदस्यों से नियमों को अलग रखकर बहस शुरू करने का आग्रह किया, लेकिन विपक्षी सदस्य अध्यक्ष के आग्रह को नजरअंदाज कर उनके आसन के पास जमा हो गए और सरकार के खिलाफ नारेबाजी करने लगे।

महाजन ने इसके बाद 10 मिनट के लिए सदन की कार्यवाही स्थगित कर दी।

बाद में उन्होंने अपने कक्ष में कुछ विपक्षी सदस्यों के साथ बैठक की, लेकिन इसका कोई नतीजा नहीं निकल सका।

दो बार स्थगित होने के बाद जब फिर से सदन की कार्यवाही शुरू हुई तब भी हंगामा जारी रहा, जिसके चलते अध्यक्ष ने सदन की कार्यवाही दिनभर के लिए स्थगित कर दी।

सुबह हंगामे के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी लोकसभा में मौजूद थे।

You May Like

Write a comment

Promoted Content