1. Home
  2. भारत
  3. राजनीति
  4. चुनाव आयोग ने स्वीकार किया अरविंद केजरीवाल का यह चैलेंज....

चुनाव आयोग ने स्वीकार किया अरविंद केजरीवाल का यह चैलेंज....

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल द्वारा इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन (ईवीएम) पर चैलेंज दिये जाने के बाद चुनाव आयोग ने दावा किया है कि इससे छेड़छाड़ के आरोप बेबुनियाद हैं और साफ कहा है कि ईवीएम के साथ कोई टैंपरिंग संभव नहीं है।...

India TV News Desk [Updated:12 Apr 2017, 12:45 PM IST]
चुनाव आयोग ने स्वीकार किया अरविंद केजरीवाल का यह चैलेंज....

नई दिल्ली: दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल द्वारा इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन (ईवीएम) पर चैलेंज दिये जाने के बाद चुनाव आयोग ने दावा किया है कि इससे छेड़छाड़ के आरोप बेबुनियाद हैं और साफ कहा है कि ईवीएम के साथ कोई टैंपरिंग संभव नहीं है। चुनाव आयोग ने इसके लिए खुला चैलेंज दिया है। सुत्रों के मुताबिक केजरीवाल की चुनौती को स्वीकार करते हुए चुनाव आयोग जल्द ही ईवीएम मशीन जांच के लिए केजरीवाल को सौंप सकती है। खबरों के मुताबिक चुनाव आयोग का कहना है कि वह इस चैलेंज के लिए जल्द ही तारीख तय करेंगे। चुनाव आयोग का कहना है कि 2009 में भी ईवीएम की स्वामित्वता पर सवाल उठाए जाने के बाद हमने खुला चैलेंज दिया था लेकिन कोई इसे साबित नहीं कर सका।

ये भी पढ़ें

एक शहर, जहां आलू-प्याज से भी सस्ते बिकते हैं काजू!
एक भारतीय जासूस जो बन गया था पाकिस्तानी सेना में मेजर

मुसलमान वहां मस्जिद बनाने की जिद न करें जहां राम मंदिर बनना है: कल्बे सादिक
सूरत का दिल 87 मिनट में पहुंचा मुम्बई, अब यूक्रेन में धड़केगा

चूंकि इस तरह की आकस्मिकताओं को एक बार फिर से उठाया गया है तो हम फिर से इसे दोहराएंगे। चुनाव आयोग के सूत्रों के हवाले से खबर है कि चुनाव आयोग सभी राजनीतिक पार्टियों के प्रतिनिधियों को इस 'ओपेन चैलेंज' में बुलाएगा। इन प्रतिनिधियों के अलावा चुनाव आयोग उन लोगों को भी बुलाएगा जो टेक्नॉलोजी के बारे में अच्छे से जानते हैं। उस व्यक्ति व संगठन को भी बुलाया जाएगा जिसने व्यक्तिगत तौर पर ईवीएम के साथ छेड़छाड़ शिकायत की है।

क्या है पूरा मामला

ईवीएम संग छेड़खानी के मुद्दे पर प्रेस कांफ्रेंस में अरविंद केजरीवाल ने चुनाव आयोग पर जमकर निशाना साधा था और निष्पक्ष वोटिंग के लिए पेपर बैलेट का इस्तेमाल करने की सलाह दी थी। प्रेस कांफ्रेस में केजरीवाल ने कहा, "ये मशीन बहुत बड़ा सवाल खड़ा करती है। सवाल ये है कि गोविंदनगर से ही मशीनें क्यों भेजी गई।"

केजरीवाल ने ईवीएम पर निशाना साधते हुए कहा कि, पहले बटन दबाने पर बीजेपी की लाइट जलती है। लेकिन अब ऐसे चेंज किया गया है कि लाइट तो वही जलेगी लेकिन वोट बीजेपी को जाएगा। बड़ा अजीब सॉफ्टवेयर इस्तेमाल किया जा रहा है।

केजरीवाल ने चुनाव आयोग पर निशाना साधते हुए कहा, "चुनाव आयोग पर सवाल खड़े होते हैं। चुनाव आयोग सॉफ्टवेयर का नाम बताए। हमने चिट्टी लिखी है कि हमारे पास सॉफ्टवेयर एक्सपर्ट हैं जो आपको बता देंगे कि इसमें सॉफ्टवेयर कौन सा है। सॉफ्टवेयर में बग भी डाल दिया गया है।"

निष्पक्ष चुनावों की खातिर केजरीवाल ने एक बार फिर कहा कि पेपर बैलेट ही एक मात्र उपाय है। इसके अलावा केजरीवाल ने चुनाव आयोग को चैलेंज किया है कि वो अपने अधिकारी की निगरानी में उन्हें ईवीएम दें।

You May Like