1. Home
  2. भारत
  3. राजनीति
  4. ‘नोटबंदी के लिए साहस की जरूरत थी, जिसे सरकार ने दिखाया’

‘नोटबंदी के लिए साहस की जरूरत थी, जिसे सरकार ने दिखाया’

नई दिल्ली: केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने मंगलवार को नोटबंदी के फैसले को एतिहासिक कदम बताते हुए कहा कि यह फैसला लागू करना सरकार के लिए काफी मुश्किल कदम था, और पूरे देश ने

India TV News Desk [Published on:22 Nov 2016, 12:36 PM]
‘नोटबंदी के लिए साहस की जरूरत थी, जिसे सरकार ने दिखाया’ - India TV

नई दिल्ली: केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने मंगलवार को नोटबंदी के फैसले को एतिहासिक कदम बताते हुए कहा कि यह फैसला लागू करना सरकार के लिए काफी मुश्किल कदम था, और पूरे देश ने इसका स्वागत किया है। उन्होंने यह भी कहा कि सरकार नोटबंदी पर चर्चा के लिए तैयार है।

जेटली ने भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की संसदीय बोर्ड की बैठक के बाद संवाददाताओं से कहा, "पूरे देश ने काले धन पर लगाम लगाने के लिए सरकार द्वारा उठाए गए कदम का स्वागत किया है.. हम नोटबंदी पर चर्चा के लिए तैयार हैं।" उन्होंने कहा, "यह एक बहुत ही बड़ा कदम था और इसके लिए साहस की जरूरत थी, जिसे सरकार ने दिखाया।"

उन्होंने यह भी बताया कि आखिर 8 नवंबर से पहले देश के एटीएम को क्यों नहीं बदल पाए है। वित्त मंत्री ने कहा, “8 नवंबर से पहले ATM नहीं बदल सकते थे, क्योंकि कालेधन को रोकने के उद्देश्य से नोटबंदी को गोपनीय रखना था।” नोटबंदी के फैसले पर केंद्र सरकार को निशाना बनाने वाले विपक्ष को जवाब देते हुए उन्होंने कहा, “हम नोटबंदी के फैसले को लेकर चर्चा करने के लिए तैयार हैं, यह हम पहले भी कह चुके हैं। कुछ लोग कह रहे हैं कि वित्त मंत्रालय तक को नोटबंदी के फैसले की जानकारी नहीं थी, फिर वही लोग कह रहे हैं कि भाजपा को पहले ही इस बारे में बता दिया गया था।”

उन्होंने कहा कि इस फैसले से कुछ दिन के लिए दिक्कत होगी, लेकिन यह देश की भलाई के लिए हैं। अरुण जेटली बोले, “नोटबंदी से गरीबी मिटाने में मदद मिलेगी। यह फैसला देशहित में है। नोटबंदी से थोड़े दिने के लिए दिक्कत हो सकती है। इन दिनों व्यापार धीमा है। हालांकि इस फैसले से कैशलैश ट्रांजेक्शन को बढ़ावा मिला है। कुछ हफ्तों के लिए हमारा ध्यान कृषि क्षेत्र पर केंद्रित है, रबि की फसल का सीजन भी आ रहा है।”

Write a comment
samvaad