1. Home
  2. भारत
  3. राजनीति
  4. नोटबंदी से राहुल, ममता की रातों की नींद उड़ी: अमित शाह

Best Hindi News Channel

नोटबंदी से राहुल, ममता की रातों की नींद उड़ी: अमित शाह

Bhasha [ Updated 27 Nov 2016, 21:17:34 ]
नोटबंदी से राहुल, ममता की रातों की नींद उड़ी: अमित शाह - India TV

बेंगलुरु: भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने आज कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के उच्च मूल्य के पुराने नोट को चलन से बाहर करने के कदम से विपक्षी नेताओं राहुल गांधी और ममता बनर्जी की रातों की नींद उड़ गई है। शाह ने भाजपा की अन्य पिछड़ा वर्ग की यहां आयोजित एक रैली में कहा, मित्रों, वे लोग आहत हैं जिनका काला धन पूरी तरह से बेकार हो गया है। नोटबंदी कदम के चलते कांग्रेस नेता राहुल गांधी, ममता, अरविंद केजरीवाल की रातों की नींद उड़ गई है और उनके चेहरों की चमक भी चली गई है।

(देश-विदेश की बड़ी खबरें पढ़ने के लिए क्लिक करें)

उन्होंने कहा, सात नवम्बर तक विपक्षी पार्टियां बसपा, सपा और कांग्रेस तथा ममता, अरविंद केजरीवाल काला धन वापस लाने के लिए मोदीजी के कदम को लेकर सवाल उठाते थे लेकिन आठ नवम्बर की आधीरात के बाद से उन्होंने अपने स्वर बदल दिये और यह पूछना शुरू कर दिया कि उन्होंने यह (नोटबंदी) क्यों की। उन्होंने नोटबंदी का विरोध करने के लिए आपस में हाथ मिलाने के लिए विपक्ष को आड़े हाथ लेते हुए कहा, बाढ़ जैसी स्थिति उत्पन्न हो गई है जब आप देखते हैं कि बीच में खड़े एक पेड़ पर एक चूहा, बिल्ली, नेवला और सांप सभी अपने को नीचे पानी के तेज बहाव से बचाने के लिए चढ़़ जाते हैं।

शाह ने कहा, दिलचस्प बात है कि नेवला और बिल्ली, सांप और चूहे को नहीं खा रहे हैं...उन सभी ने कालेधन और भ्रष्टाचार के खिलाफ मोदी की लड़ाई के विरोध में हाथ मिला लिये हैं। शाह ने यद्यपि भ्रष्टाचार और कालेधन के खिलाफ मोदी के प्रयासों का समर्थन करने के लिए बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के प्रति आभार जताया। उन्होंने कहा, मैं बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के प्रति इसके लिए आभार जताना चाहता हूं कि उन्होंने कालेधन और भ्रष्टाचार के खिलाफ मोदीजी की लड़ाई का समर्थन किया है।

शाह ने कर्नाटक में कांग्रेस की सरकार का उल्लेख करते हुए आरोप लगाया कि सिद्धरमैया सरकार देश की सबसे भ्रष्ट है। उन्होंने राज्य के लोगों से आग्रह किया कि वे वर्तमान सरकार को उखाड़ फेंके और बी एस येदियुरप्पा के नेतृत्व में एक वर्तमान सरकार चुनें जो अपने पांच वर्ष के कार्यकाल में राज्य को शीर्ष राज्यों में से एक बना देगी।

Read Complete Article
loading...