1. Home
  2. भारत
  3. राष्ट्रीय
  4. 'ओसामा' के लिए आगे आईं सुषमा स्वराज, बिना लेटर के मिलेगी भारत में एंट्री

'ओसामा' के लिए आगे आईं सुषमा स्वराज, बिना लेटर के मिलेगी भारत में एंट्री

ओसामा के पिता जावेद नाज खान पेशे से वकील है और पाकिस्तान मुस्लिम लीग (नवाज) के सदस्य भी है। उन्होंने कहा कि उनके पास अपने बेटे का इजाल यूरोप में कराने के लिए पैसे नहीं है। भारत में इलाज बहुत सस्ता है इसलिए...

Edited by: India TV News Desk [Published on:18 Jul 2017, 12:31 PM IST]
'ओसामा' के लिए आगे आईं सुषमा स्वराज, बिना लेटर के मिलेगी भारत में एंट्री

नई दिल्ली: पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (पीओके) में रहने वाले 24 साल के युवक को विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने वीजा देने का ऐलान किया है। उन्होंने कहा कि इसके लिए पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के सलाहकार सरताज अजीज के पत्र की कोई जरूरत नहीं है। पीओके को भारत का अभिन्न अंग बताते हुए सुषमा ने कहा कि पाकिस्तान ने वहां गैरकानूनी तरीके से कब्जा किया हुआ है। माना जा रहा है कि पीओके के युवक को बिना पत्र वीजा देकर सुषमा ने पाकिस्तान को आईना दिखाने का काम किया है। ये भी पढ़ें: दलालों के चक्कर में न पड़ें 60 रुपए में बन जाता है ड्राइविंग लाइसेंस

अंग्रेजी अखबार इंडियन एक्सप्रेस की खबर के मुताबिक रावलकोट में रहने वाले 24 साल के ओसामा अली के लीवर में ट्यूमर है। अली इसी के इलाज के लिए दिल्ली आना चाहता है। लेकिन पाकिस्तान पीएम नवाज शरीफ के विदेश मामलों के सलाहकार सरताज अजीज ने इस्लामाबाद में भारतीय उच्चायोग को जरूरी पत्र लिख कर नहीं दिया जिसकी वजह से अली को मेडिकल इमरजेंसी वीजा नहीं मिल पा रहा था।

ओसामा के पिता जावेद नाज खान पेशे से वकील है और पाकिस्तान मुस्लिम लीग (नवाज) के सदस्य भी है। उन्होंने कहा कि उनके पास अपने बेटे का इजाल यूरोप में कराने के लिए पैसे नहीं है। भारत में इलाज बहुत सस्ता है इसलिए वह भारत आना चाहते हैं। ओसामा को दिल्ली के साकेत में स्थित एक प्राइवेट अस्पताल इलाज करने को तैयार है। अस्पताल के डॉक्टर्स ने उसे बता दिया है कि उसका लिवर ट्रांसप्लांट करना जरूरी है।

ओसामा के पिता ने पीओके के राष्ट्रपति मसूद खान के जरिए विदेश मंत्रालय को पत्र लिखा था। लेकिन जवाब में कहा गया, ‘ऐसी कोई नीति नहीं है जो अजीज साहब को पत्र लिखना पड़े। दक्षिण एशिया डेस्क के मुख्य सचिव को ऐसा पत्र लिखना होता है लेकिन हमारी जानकारी में आया है कि भारतीय हाई कमीशन ऐसे कुछ वीजा रिजेक्ट कर चुका है।’

जावेद नाज खान ने बताया कि उन्होंने भारत सरकार से बिना लेटर के मेडिकल वीजा देने की गुजारिश की थी। लेकिन विदेश मंत्री 10 जुलाई को यह साफ कर चुकी थी इस तरह के वीजा में अजीज के लेटर की जरूरत पड़ेगी। सुषमा ने 10 जुलाई कई ट्वीट्स किए थे। उनमें उन्होंने कहा कि मेडिकल वीजा देने के लिए हमें अजीज के लेटर की जरूरत है। एक ट्वीट में उन्होंने कहा था, मेरी समझ नहीं आ रहा है कि वह क्यों अपने ही देश के नागिरकों को लेटर लिख नहीं दे रहे हैं।

ये भी पढ़ें: अगर सांप काटे तो क्या करें-क्या न करें, इन बातों का रखें ध्यान...
इस राजा की थी 365 रानियां, उनके खास महल में केवल निर्वस्‍त्र हीं कर सकते थे एंट्री

Related Tags:

You May Like

Write a comment

Promoted Content