1. Home
  2. भारत
  3. राष्ट्रीय
  4. शादी-विवाह वाले परिवारों के लिये थोड़ी राहत, बैंक सहकारी बैंकों को कोष उपलब्ध कराएंगे

शादी-विवाह वाले परिवारों के लिये थोड़ी राहत, बैंक सहकारी बैंकों को कोष उपलब्ध कराएंगे

मुंबई: रिजर्व बैंक ने शादी-विवाहों वाले परिवार को थोड़ी राहत देते हुए अपने खाते से 2.5 लाख रुपये की निकासी के लिए आज विभिन्न शर्तों में कुछ छूट दी। इसके तहत केवल 10,000 रुपये से

Bhasha [Updated:22 Nov 2016, 11:48 PM IST]
शादी-विवाह वाले परिवारों के लिये थोड़ी राहत, बैंक सहकारी बैंकों को कोष उपलब्ध कराएंगे

मुंबई: रिजर्व बैंक ने शादी-विवाहों वाले परिवार को थोड़ी राहत देते हुए अपने खाते से 2.5 लाख रुपये की निकासी के लिए आज विभिन्न शर्तों में कुछ छूट दी। इसके तहत केवल 10,000 रुपये से अधिक भुगतान के लिये ही घोषणापत्र देनी होगी। इससे पहले, पैसा निकालने वाले को 2.5 लाख रुपये की निकासी में सभी भुगतान के बारे में जानकारी देनी थी।

(देश-विदेश की बड़ी खबरें पढ़ने के लिए क्लिक करें)

साथ ही आरबीआई ने बैंकों से किसानों के वितरण के लिये ग्रामीण सहकारी बैंकों को पर्याप्त कोष की उपलब्धता सुनिश्चित करने को कहा। इसका मकसद यह सुनिश्चित करना है कि किसानों के मौजूदा रबी मौसम में बीज, उर्वरक तथा अन्य कच्चे माल की खरीदारी के लिये पर्याप्त वैध नोट हों।

Also read:

इसके अलावा रिजर्व बैंक ने डिजिटल साधनों के जरिये लोगों की लेन-देन जरूरतों को पूरा करने के लिये सेमी-क्लोज प्री-पेड इंस्ट्रूमेंट के लिये सीमा दोगुनी कर 20,000 रपये कर दी है। इससे पहले, रिजर्व बैंक ने बैंकों से अवैध मुद्रा को बदलने या उसे करने में धोखाधड़ी करने वाले अधिकारियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने को कहा।

केंद्रीय बैंक ने यह बात ऐसे समय कही है जब लाखों लोग बंद हो चुके 500 और 1,000 रुपये के नोट को बदलने के लिये लाइन में लगे हैं। बैंकों से यह भी कहा गया है कि वे बदले गये या जमा किये गये नोट के बारे में कम समय में मांगने पर जानकारी उपलब्ध कराने को तैयार रहें।

रिजर्व बैंक ने कहा, यह हमारे नोटिस में आया है कि कुछ जगहों पर कुछ बैंक शाखा के अधिकारी कुछ बदमाशों के साथ मिलकर नोटों को बदलने या उसे जमा करने में धोखाधड़ी में शामिल हैं। केंद्रीय बैंक ने कहा, इसीलिए बैंकों को सलाह दी जाती है कि वे इस प्रकार की धोखाधड़ी वाली गतिविधियों पर निगरानी बढ़ाकर लगाम लगायें और ऐसी गतिविधियों में शामिल अधिकारियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करें।