ford
  1. You Are At:
  2. होम
  3. भारत
  4. राष्ट्रीय
  5. करणी सेना का बड़ा आरोप, नाहरगढ़ किले में लटकते शव के पीछे 'पद्मावती' के डायरेक्टर

करणी सेना का बड़ा आरोप, नाहरगढ़ किले में लटकते शव के पीछे 'पद्मावती' के डायरेक्टर

पिछले एक महीने से विरोध के नाम पर बंधक बना लिया है पूरी व्यवस्था को जिस करणी सेना ने, अब उसके संरक्षक बोल रहे हैं कि नाहरगढ़ के किले में जिस शख्स की लाश मिली थी, उसकी हत्या की साजिश की गई है और साजिश करने वाला कोई और नहीं फिल्म पद्मावती के डायरेक्टर

Written by: India TV News Desk [Published on:29 Nov 2017, 10:59 AM IST]
karni-sena- Khabar IndiaTV
karni-sena

नई दिल्ली: पद्मावती एक फिल्म का नाम नहीं विवाद का नाम बन गया है। करणी सेना ने संजय लीला भंसाली पर नया आरोप लगया है। आरोप है कि नाहरगढ़ के किले में जिस शख्स का शव मिला था, उसकी हत्या कराई गई है और इसके पीछे फिल्म के डायरेक्टर हो सकते हैं और उनके पास भंसाली के खिलाफ सबूत है। ये बयान ऐसे समय में आया है जब मंगलवार को ही सुप्रिम कोर्ट ने राज्य सरकारों के साथ विरोध करने वालों को फटकार लगाई थी।

पिछले एक महीने से विरोध के नाम पर बंधक बना लिया है पूरी व्यवस्था को जिस करणी सेना ने, अब उसके संरक्षक बोल रहे हैं कि नाहरगढ़ के किले में जिस शख्स की लाश मिली थी, उसकी हत्या की साजिश की गई है और साजिश करने वाला कोई और नहीं फिल्म पद्मावती के डायरेक्टर संजय लीला भंसाली हैं। करणी सेना की करनी देखकर सुप्रीम कोर्ट तक को कहना पड़ा है जब फिल्म पर्दे पर आई ही नहीं तो बवाल कैसा।

कोर्ट ने कहा कि बिना फिल्म देखे जिम्मेदार पद पर बैठे लोग इसको लेकर बयान क्यों दे रहे हैं? जिम्मेदार पदों और पब्लिक ऑफिस में बैठे लोगों की बयानबाजी फिल्म को लेकर बंद हो, क्योंकि ये सेंसर बोर्ड के दिमाग में पक्षपात पैदा करेगा। अगर कोई ऐसा करता है तो वो कानून के राज के सिद्धांत का उल्लंघन करेगा।

करणी सेना ने राजपूताना शान के नाम पर फिल्म पर कील ठोंकनी चाही है लेकिन सुप्रीम कोर्ट की फटकार के बाद लोगों को पद्मावती के सवालों पर जवाब नहीं सूझ रहा लेकिन ऐसी फटकार के बाद भी बिहार सरकार उस कतार में खड़ी हो गई है जिस सरकार ने कहा है पद्मावती फिल्म देखने लायक नहीं बनाई गई है।

बता दें कि बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने फिल्म को लेकर अधिकारियों से कहा कि जब तक विवाद खत्म नहीं हो जाता, यह बिहार में नहीं दिखाई जाएगी। मुख्यमंत्री ने मंगलवार को यहां तक कह डाला कि जब तक फिल्म से जुड़े लोग चल रहे विवाद पर अपनी सफाई नहीं देते, यह फिल्म बिहार में प्रदर्शित नहीं की जाएगी। मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को कहा कि जब तक संजय लीला भंसाली और फिल्म से जुड़े लोग विवाद के संबंध में सफाई नहीं देंगे, यहां कोई फिल्म नहीं चलेगी।

इससे पहले सुपौल के छातापुर से भाजपा विधायक नीरज कुमार सिंह ने मुख्यमंत्री को फिल्म 'पद्मावती' पर बिहार में प्रतिबंध लगाने से संबंधित एक पत्र सौंपा। विधायक नीरज ने कहा कि इतिहास की किताबों में कहीं भी रानी पद्मावती के नृत्य करने का वर्णन नहीं है, जबकि फिल्म के ट्रेलर में उन्हें नृत्य करते दिखाया गया है। उन्होंने कहा कि इतिहास के साथ छेड़छाड़ बर्दाश्त नहीं की जा सकती।

You May Like