1. Home
  2. भारत
  3. राष्ट्रीय
  4. PM मोदी का नया इंटरव्यू: स्वामी पर साधा निशाना, राजन को बताया ‘देशभक्त’

PM मोदी का नया इंटरव्यू: स्वामी पर साधा निशाना, राजन को बताया ‘देशभक्त’

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने पाकिस्तान के साथ रिश्तों पर अपनी सरकार की नीति साफ की और डॉ सुब्रह्मण्यन स्वामी को आड़े हाथों लिया। पीएम मोदी ने आज एक अंग्रेजी चैनल को दिए इंटरव्यू

India TV News Desk [Updated:27 Jun 2016, 9:48 PM]
PM मोदी का नया इंटरव्यू: स्वामी पर साधा निशाना, राजन को बताया ‘देशभक्त’ - India TV

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने पाकिस्तान के साथ रिश्तों पर अपनी सरकार की नीति साफ की और डॉ सुब्रह्मण्यन स्वामी को आड़े हाथों लिया। पीएम मोदी ने आज एक अंग्रेजी चैनल को दिए इंटरव्यू में बताया कि वो पाकिस्तान क्यों गए, उनकी लाहौर यात्रा का क्या असर हुआ और पाकिस्तान के साथ उनकी सरकार कैसे रिश्ते चाहती है। मोदी ने कहा कि पाकिस्तान के साथ दिक्कत ये है कि वहां ये समझ नहीं आता किसके साथ बात करें।

पाक से दोस्ती लेकिन भारत के हितों के साथ समझौता नहीं

पाकिस्तान के बारे में पीएम मोदी ने खुलकर बात की और कहा कि पाकिस्तान की सरकार से बात करने की कोशिश की है लेकिन लगता है पाकिस्तान में कई पावर सेंटर्स हैं। मोदी ने कहा कि वो पाकिस्तान से दोस्ती चाहते हैं लेकिन भारत के हितों के साथ समझौता किए बगैर।

NSG के मुद्दे पर क्या बोले-

इसके बाद NSG के मुद्दे पर मोदी ने कहा कि NSG की मेंबरशिप के लिए पिछली सरकारों ने भी कोशिश की थी। उनकी सरकार ने भी कदम बढ़ाए, अब नियमों के मुताबिक प्रक्रिया चलेगी। उन्होंने आज विश्वास जताया कि देश को जल्द ही समूह की सदस्यता मिलेगी और इसके लिए प्रक्रिया सकारात्मक सोच के साथ शुरू हो चुकी है।

'चीन के साथ आंख से आंख मिलाकर बात करती है मोदी सरकार'

चीन के बारे में मोदी ने कहा कि दोनों सरकारों के बीच बात होती रहती है। चीन के साथ बहुत से विवाद हैं, बहुत सी दिक्कत हैं। धीरे-धीरे सब पर काम हो रहा है। मोदी ने कहा कि चीन का रवैया भी सकारात्मक है और उनकी सरकार चीन के साथ आंख से आंख मिलाकर बात करती है और भारत के हितों को सर्वोपरि रखकर ही बात की जाती है।

विदेश दौरे की बताई ये वजह

विरोधी बार बार इल्जाम लगाते हैं कि मोदी सिर्फ विदेश घूमते रहते हैं। आज मोदी ने इसका भी जबाव दिया और उन्होंने इतने विदेश दौरों की वजह भी बताई। अपनी विदेश नीति पर पीएम मोदी ने कहा, पिछले 30 सालों तक हमारे देश में अस्थिर सरकारें रही हैं। देश की जनता ने हमें बहुमत दिया, इसका असर दुनिया के नजरिए पर होता है। दुनिया देश के मुखिया को जानना चाहती है लेकिन मोदी को कोई नहीं जानता था इसलिए बतौर पीएम मुझे प्रो-एक्टिव होना पड़ा।

स्वामी पर साधा निशाना, राजन को किया सपोर्ट

आज नरेन्द्र मोदी ने रिजर्व बैंक के गवर्नर रघुराम राजन को भी सपोर्ट किया। डॉ सुब्रह्मण्यम स्वामी पिछले एक महीने से लगातार रघुराम राजन को निशाना बना रहे थे। राजन कह चुके हैं कि उनका कार्यकाल सितंबर में पूरा हो रहा है और उसके बाद वो दूसरा कार्यकाल नहीं लेंगे। आज मोदी ने कहा कि रघुराम राजन की देशभक्त किसी से कम नहीं हैं और जो लोग उन पर टिप्पणी कर रहे हैं वो रघुरामन राजन के साथ अन्याय कर रहे हैं।

मोदी ने डॉ स्वामी को सख्त लहजे में चेतावनी भी दी। उन्होंने सुब्रह्मण्यम स्वामी का नाम लिए बगैर कहा कि जो लोग पब्लिसिटी के लिए खुद को पार्टी से बड़ा समझने लगते हैं वो देश का भला नहीं कर रहे।

'कालाधन रखने वालों की खैर नहीं'

इसके बाद मोदी ने कालेधन के सवाल पर कहा कि कालेधन के मुद्दे पर उनकी सरकार की नीति साफ है और कालाधन रखने वालों की खैर नहीं। उन्होंने कहा कि सरकार दो दिशा में काम कर रही है एक तो देश में ब्लैकमनी जरनेट न हो और जो पैसा विदेशों मे छिपाया गया उसे वापस लाया जाए।

ललित मोदी और माल्या को कड़ा संदेश

प्रधानमंत्री मोदी ने ललित मोदी और विजय माल्या जैसे लोगों को भी कड़ा मैसेज दिया है। उन्होंने साफ कहा कि देश का पैसा लेकर विदेश भाग जाने वाले लोग बच नहीं पाएंगे।

‘सोनिया गांधी के घर चाय पीने भी जाना पड़े तो जाऊंगा’

मोदी ने बिना नाम लिए सोनिया गांधी की तरफ इशारा किया और कहा अगर जीएसटी पास कराने किए सोनिया गांधी के घर चाय पीने भी जाना पड़े तो वो जाएंगे।

मोदी ने माना बड़ी चुनौती है महंगाई

मोदी सरकार की सबसे बड़ी चुनौती है मंहगाई। मोदी ने माना कि इसमें कोई शक नहीं है कि मंहगाई बढ़ी है। उन्होंने कहा कि सरकार जरूरी कदम उठा रही है लेकिन 2 साल के भयंकर सूखे के कारण उत्पादन कम हुआ है और इसका असर कीमतों पर पड़ा। उन्होंने कहा कि पिछली सरकार के मुकाबले इस वक्त मंहगाई बढ़ने की दर कम है।

कांग्रेस पर वार

संसद में गतिरोध बने रहने से क्या उद्देश्यों की प्राप्ति में अड़चन आई है, इस प्रश्न पर प्रधानमंत्री ने कांग्रेस की ओर इशारा करते हुए कहा कि सरकार ने प्रत्येक मुद्दे पर पार्टियों के साथ बात करने का प्रयास किया है। उन्होंने कहा, एक पार्टी है, जिसे समस्या है और पूरी दुनिया उस पार्टी के बारे में जानती है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस 60 साल तक देश चलाने के बाद विपक्ष में जो बर्ताव कर रही है उससे भाजपा के विपक्ष में रहते व्यवहार की तुलना करना सही नहीं होगा।

Read Complete Article
Write a comment
Gold Contest 2017