1. Home
  2. भारत
  3. राष्ट्रीय
  4. आपका त्याग बेकार नहीं जाएगा, भाग्य बदलने के लिए किया फैसला: PM मोदी

आपका त्याग बेकार नहीं जाएगा, भाग्य बदलने के लिए किया फैसला: PM मोदी

IANS [ Updated 20 Nov 2016, 20:28:18 ]
आपका त्याग बेकार नहीं जाएगा, भाग्य बदलने के लिए किया फैसला: PM मोदी - India TV

आगरा: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि केंद्र सरकार का पहला काम है कि शहरी क्षेत्र हो, ग्रामीण क्षेत्र हो सबके पास अपना घर हो। इसके लिए केंद्र सरकार कई योजनाएं लेकर आ रही है। उन्होंने कहा कि देश से भ्रष्टाचार मिटाने के लिए हर वर्ग के लोगों का समर्थन मिल रहा है। (देश-विदेश की बड़ी खबरें पढ़ने के लिए क्लिक करें)

आगरा के कोठी मीना बाजार में परिवर्तन रैली को संबोधित करते हुए मोदी ने यह बातें कही। उन्होंने कहा कि नोटबंदी के फैसले के बाद देश में पांच लाख करोड़ रुपये जमा कराए गए हैं। उन्होंने कहा, "देश को भ्रष्टाचारियों से मुक्त कराने के लिए जो बीड़ा उठाया है उसका सीधा लाभ गरीबों को मिलेगा। मैं आपको विश्वास दिलाता हूं कि आपके सपने सच होकर रहेंगे। यह काम बहुत बड़ा है।"

Also read:

मोदी ने कहा कि नोटबंदी से थोड़ी असुविधा होगी। लेकिन देशवासी इस कार्य को सफल बनाने के लिए कष्ट उठा रहे हैं। भ्रष्टाचार को दूर करने के लिए हर वर्ग के लोग कष्ट उठा रहे हैं। आपका यह त्याग बेकार नहीं जाएगा।

इससे पूर्व कानपुर के पुखरायां में हुए भीषण रेल हादसे पर दुख जताते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि यह काफी दुखद है। उन्होंने कहा केंद्र सरकार की तरफ से दुर्घटना की पूरी जांच तो होगी ही, लेकिन पीड़ित परिवारों को पूरी सहायता प्रदान की जाएगी। मोदी ने इस मौके पर रेल हादसे में मारे गए लोगों को श्रद्धांजलि भी अर्पित की। इस मौके पर उन्होंने कहा कि इसका उन्हें काफी दुख है। इस हादसे से उबरने के लिए केंद्र पूरी मदद करेगा।

प्रधानमंत्री ने कहा कि रेलवे की बेहतरी से यहां के लोगों के जीवन में सुधार हो जाएगा। प्रधानमंत्री जनधन योजना के तहत गरीबों का खाता खुलवाया। प्रधानमंत्री उज्जवला योजना का लाभ गरीबों को मिल रहा है। इससे गरीबों को चूल्हा जलाने से मुक्ति मिलेगी। उन्होंने कहा कि इस योजना से गरीबों को गैस का कनेक्शन मिलेगा। चूल्हे पर खाना बनाना नहीं पड़ेगा। लकड़ियों के लिए गरीबों को भटकना नहीं पड़ेगा। इससे गरीबों के जीवन में बदलाव आएगा।

प्रधानमंत्री ने कहा कि देश में 18 हजार गांव 18वीं शताब्दी में जीते थे। बिजली का काम पूरा करने की ठानी थी। 95 प्रतिशत काम पूरा कर लिया है। गरीबों की प्राथमिकता को लेकर आगे बढ़ रहे हैं। देश के गरीबों, नौजवानों का कर्ज अदा करना चाहता हूं।

Read Complete Article
loading...