1. Home
  2. भारत
  3. राष्ट्रीय
  4. जाकिर नाइक के ऑनलाइन कंटेंट ब्लॉक होंगे, परिसरों में तलाशी जारी

जाकिर नाइक के ऑनलाइन कंटेंट ब्लॉक होंगे, परिसरों में तलाशी जारी

राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) ने विवादित इस्लामी प्रचारक जाकिर नाइक के प्रतिबंधित संगठन इस्लामिक रिसर्च फाउंडेशन (IRF)की वेबसाइट बंद करने के साथ ही जाकिर के सभी ऑनलाइन कंटेंट को ब्लॉक करने का काम शुरू कर दिया है।

Bhasha [Published on:21 Nov 2016, 10:02 PM]
जाकिर नाइक के ऑनलाइन कंटेंट ब्लॉक होंगे, परिसरों में तलाशी जारी - India TV

मुंबई: राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) ने विवादित इस्लामी प्रचारक जाकिर नाइक के प्रतिबंधित संगठन इस्लामिक रिसर्च फाउंडेशन (IRF) की वेबसाइट बंद करने के साथ ही जाकिर के सभी ऑनलाइन कंटेंट को ब्लॉक करने का काम शुरू कर दिया है। NIA ने सोमवार को लगातार तीसरे दिन जाकिर नाइक, उसके एनजीओ और कुछ सहयोगियों के परिसरों पर छापेमारी की। जांच एजेंसी की ओर नाइक को तलब भी किया गया है। नाइक एक जुलाई को ढाका आतंकी हमले के बाद उनका नाम चर्चा में आने के समय से विदेश में हैं। इस हमले में शामिल एक आतंकवादी ने सोशल मीडिया पर पोस्ट किया था कि वह नाइक के भाषणों से प्रेरित है। 

(देश-विदेश की बड़ी खबरें पढ़ने के लिए क्लिक करें)

IRF के दफ्तरों और परिसरों पर छानबीन अभियान अब भी जारी है। हारमनी मीडिया प्राइवेट लिमिटेड के परिसरों पर भी छापा मारा गया है जहां से नाइक के पीस टीवी के कार्यक्रम प्रसारित होते थे। NIA ने IRF की वेबसाइट भी बंद की जो कथित रूप से नाइक के घृणा फैलाने वाले भाषणों का प्रचार कर रही थी। वहीं जाकिर नाइक के यूट्यूब समेत सभी ऑनलाइन कंटेंट को ब्लॉक करने का काम शुरू कर दिया गया है। NIA प्रवक्ता ने बताया कि जांच के तहत, इसकी आनलाइन क्रियाकलाप पर पाबंदी सहित प्रतिबंधित संगठन के खिलाफ जरूरी सभी कार्रवाई की जा रही है। 

केन्द्र द्वारा पिछले सप्ताह IRF  पर प्रतिबंध लगाया था और इसे पांच साल के लिए गैरकानूनी क्रियाकलाप रोकथाम कानून के तहत आतंकवादी संगठन घोषित किया था। 
अगर नाइक NIA के सम्मन का जवाब नहीं देते हैं तो उनके खिलाफ इंटरपोल के जरिये रेड कार्नर नोटिस जारी किया जाएगा। अधिकारियों ने कहा कि NIA अब भी नाइक के फेसबुक पेज, ट्विटर एकाउंट और यूट्यूब वीडियो को बंद करने का प्रयास कर रहा है जिसमें कथित आपत्तिजनक सामग्री मौजूद है। एनआईए अमेरिका में अधिकारियों से मदद मांग सकती है जहां गूगल और याहू जैसे इंटरनेट कंपनियों के सर्वर मौजूद हैं। 

Also read:

Read Complete Article
Write a comment
Gold Contest 2017