1. Home
  2. भारत
  3. राष्ट्रीय
  4. पहला मौका जब PM मोदी देश की किसी मस्जिद में गए जानें सीदी सैयद में क्या है खास

पहला मौका जब PM मोदी देश की किसी मस्जिद में गए जानें सीदी सैयद में क्या है खास

शिंजो आबे के साथ प्रधानमंत्री मोदी आज शाम जब सीदी सैयद मस्जिद पहुंचे, तब सूर्यास्त का वक्त था। इस मस्जिद की खास बात है कि शाम के वक्त जब ढलते सूरज की किरणें मस्जिद की जाली से निकलती हैं, तो वो नजारा अद्भुत...

Written by: India TV News Desk [Updated:13 Sep 2017, 7:05 PM IST]
पहला मौका जब PM मोदी देश की किसी मस्जिद में गए जानें सीदी सैयद में क्या है खास

नई दिल्ली : जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ आज शाम ऐतिहासिक सीदी सैयद मस्जिद गए। प्रधानमंत्री मोदी और शिंजो आबे के दौरे को लेकर मस्जिद को शानदार तरीके से सजाया गया ह। 16वीं शताब्दी में बनी सीदी सैयद मस्जिद जालीदार नक्काशी के लिए मशहूर है। ये भी पढ़ें: सिरसा: हनीप्रीत के कमरे में नोटों का ज़खीरा, मिला 250 करोड़ कैश?

जापान के प्रधाननमंत्री शिंजो आबे आज हिंदू-मुस्लिम एकता की मिसाल सीदी सैयद मस्जिद पहुंचे जहां उनके साथ खुद प्रधानमंत्री मोदी एक गाइड की भूमिका में थे। इस मस्जिद को सीदी सैयद की जाली के नाम से जाना जाता है और ये पहला मौका होगा, जब पीएम मोदी देश की किसी मस्जिद में गए।

प्रधानमंत्री मोदी और शिंजो आबे के दौरे को देखते हुए इस ऐतिहासिक मस्जिद को भी खूब सजाया गया । मस्जिद की खूबसूरती को निखारने में मस्जिद के अधिकारियों के साथ-साथ अहमदाबाद म्यूनिसिपल कमिश्नर और पुरातात्त्विक सर्वे विभाग ने काफी मेहनत की है।

सीदी सैयद मस्जिद का इतिहास बेहद दिलचस्प है...

-मस्जिद का निर्माण 1572 में सुल्तान शमसुद्दीन मुजफ्फर शाह के शासनकाल में इथियोपिया के हब्शी सीदी सैयद ने करवाया था
-मुजफ्फर शाह गुजरात सल्तनत के आखिरी सुल्तान थे
-वैसे यह मस्जिद पूरी तरह बनकर तैयार 1573 में तैयार हुआ, जब मुगल बादशाह अकबर ने गुजरात पर कब्जा कर लिया था
-विश्व धरोहरों में शामिल इस मस्जिद की जाली के डिजाइन दुनिया भर में मशहूर हैं
-ये मस्जिद अहमदाबाद की पहचान रही है
-इस मस्जिद में जालीदार नक्काशी का खूब काम हुआ है, इसीलिए इसे सीदी सैयद की जाली भी कहते हैं

शिंजो आबे के साथ प्रधानमंत्री मोदी आज शाम जब सीदी सैयद मस्जिद पहुंचेंगे, तब सूर्यास्त का वक्त होगा। इस मस्जिद की खास बात है कि शाम के वक्त जब ढलते सूरज की किरणें मस्जिद की जाली से निकलती हैं, तो वो नजारा अद्भुत होता है। यही वजह है कि पीएम मोदी और शिंजो आबे के लिए खासतौर पर इस वक्त फोटो सेशन का कार्यक्रम रखा गया है।