1. Home
  2. भारत
  3. राष्ट्रीय
  4. हिंदू संगठनों ने मंदिरों में महिलाओं के परिधान के ख़िलाफ़ किया प्रदर्शन

हिंदू संगठनों ने मंदिरों में महिलाओं के परिधान के ख़िलाफ़ किया प्रदर्शन

तिरूवनंतपुरम: मंदिरों में पूजा के समय पारंपरिक भारतीय सलवार कमीज और चूड़ीदार पहनने को अनुमति देकर महिलाओं के परिधान से जुड़ी परंपरा में ढील देने के फैसले के खिलाफ विभिन्न हिंदू संगठनों ने आज पद्मनाभ

Bhasha [Published on:30 Nov 2016, 5:57 PM IST]
हिंदू संगठनों ने मंदिरों में महिलाओं के परिधान के ख़िलाफ़ किया प्रदर्शन

तिरूवनंतपुरम: मंदिरों में पूजा के समय पारंपरिक भारतीय सलवार कमीज और चूड़ीदार पहनने को अनुमति देकर महिलाओं के परिधान से जुड़ी परंपरा में ढील देने के फैसले के खिलाफ विभिन्न हिंदू संगठनों ने आज पद्मनाभ स्वामी मंदिर के सामने विरोध प्रदर्शन किया । 

वे कार्यकारी अधिकारी के एन सतीश के महिलाओं को सलवार और चूड़ीदार पहनकर मंदिर में पूजा करने की अनुमति देने के फैसले के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे थे। 
दुनिया में सबसे धनवान माने जाने वाले इस पवित्र मंदिर में प्रवेश करते वक्त इससे पहले महिला श्रद्धालुओं को सलवार और चूड़ीदार धारण किये होने की स्थिति में कमर पर मुंडू (धोती) पहनना होता था । 

देवसोम मंत्री कडाकमपल्ली सुरेंद्रन ने कहा कि उन्हें अधिकारी के फैसले और विरोध प्रदर्शन के बारे में पता चला । उन्होंने संवाददाताओं से कहा , सरकार सभी पहलुओं पर गौर करने के बाद उचित फैसला करेगी। 

केरल ब्राह्मण सभा के कुछ सदस्य फैसले के खिलाफ मंदिर के पश्चिमी द्वार की तरफ की सड़क पर धरने पर बैठ गए । हालांकि सलवार कमीज और चूड़ीदार पहनी हुयी महिलाएं पूर्वी द्वार से भीतर घुस पायीं। 

हिंदू एक्य वेदी अध्यक्ष शशिकला टीचर ने कहा कि कार्यकारी अधिकारी इस तरह का फैसला नहीं कर सकते जो मंदिर की परंपरा के खिलाफ हो । 

उच्च न्यायालय के न्यायमूर्ति शाजी पी चाली ने कल रिया राजी की याचिका का निपटारा करते हुए कार्यकारी अधिकारी को मंदिर में घुसते समय सलवार और चूड़ीदार पहनी हुयी महिलाओं को धोती पहनने के लिए मजबूर करने के खिलाफ उनकी याचिका पर विचार करने तथा याचिकाकर्ता तथा संबंधित किसी व्यक्ति को सुनने के बाद एक महीने के भीतर उपयुक्त फैसला करने का निर्देश दिया। 

Related Tags:

You May Like

Write a comment

Promoted Content