1. Home
  2. भारत
  3. राष्ट्रीय
  4. नोटबंदी से देश भर में 40 मौतें

Best Hindi News Channel

नोटबंदी से देश भर में 40 मौतें

India TV News Desk [ Updated 17 Nov 2016, 11:06:04 ]
नोटबंदी से देश भर में 40 मौतें - India TV

नोटबंदी के बाद नोटों की मारामारी जिंदगी पर अब भारी पड़ने लगी है। आईएएनएस के अनुसार देश भर में नोटबंदी से संबंधित 40 मौतों की ख़बर है। बात चाहे दिल्ली की हो, मुंबई की हो या फिर बरेली, बदायूं या गया की, हर जगह से नोटबंदी की कतार जिंदगी पर भारी पड़ती दिख रही है। देश की राजधानी दिल्ली के बल्लीमारान में पचास साल के सऊद-उर-रहमान की मौत हो गई। रहमान बैंक ऑफ इंडिया के बाहर नोट बदलने के लिए लाइन में खड़े थे तभी उन्हें सीने में दर्द होने लगा। उन्होंने अपने दोस्त को फोन किया जो उन्हें अस्पताल ले गया लेकिन करीब दो घंटे तक डॉक्टरों की कोशिश के बावजूद उन्हें बचाया नहीं जा सका। 

मुंबई से सटे भायंदर से भी बैंक की कतार से मौत की ख़बर आई है। 60 साल के दीपक शाह भायंदर के बैसीन कैथलिक कोऑपरेटिव बैंक के बाहर कतार में खड़े थे तभी उनके सीने में तेज़ दर्द उठा। उन्हें फ़ौरन अस्पताल ले जाया गया लेकिन उनको बचाया नहीं जा सका। दीपक पिछले तीन दिनों से नोट बदलवाने के लिए बैंक पहुंच रहे थे लेकिन हर बार उन्हें मायूस लौटना पड़ रहा था। 

इसी तरह यूपी के बरेली से भी इसी तरह की ख़बर मिली है। पैंतालीस साल के खलीक अहमद तीन दिन से स्टेट बैंक की श्यामगंज ब्रांच की लाइन में सुबह से लग रहे थे लेकिन उनका नंबर आते-आते कभी बैंक बंद हो जाता तो कभी कैश खत्म हो जाता था। बुधवार को भी वो नोटों की उम्मीद में खड़े थे तभी उन्हें हार्ट अटैक आया और मौके पर ही उनकी मौत हो गई। मौत से भड़के लोगों ने शव चौराहे पर रख कर जाम लगा दिया। हालात इतने बिगड़े कि पुलिस बुलानी पड़ी।

यूपी में बदायूं के कुंवरगांव में भी एक घर में मातम छाया हुआ है। यहां एक महिला की 14 तारीख को एक मृत बच्चे को जन्म देने के बाद तबीयत बिगड़ गई थी। महिला को अस्पताल में भर्ती कराया गया. जब तक घरवालों के पास सौ-सौ के नोट थे तब तक अस्पताल में इलाज चलता रहा और मेडिकल स्टोर वाले दवा देते रहे लेकिन जैसे ही खुले पैसे खत्म हुए अस्पताल ने इलाज बंद कर दिया। परिजन पैसे लाने के लिए बैंक की कतार में थे और इधर महिला ने बिना इलाज के दम तोड़ दिया।

बिहार के गया में परिवार के लोग बुजुर्ग महिला के इलाज के लिये पैसे निकालने पंहुचे थे लेकिन बैंक में ही हार्ट अटैक आया और उनकी मौत हो गई। परिवार का आरोप है कि बैंक में सीनियर सिटिजन के लिये कोई इंतज़ाम नहीं था।

Read Complete Article
loading...