1. Home
  2. भारत
  3. राष्ट्रीय
  4. ...तो इस छोटी सी बात के लिए छोटे भाई ने ली अपने बड़े भाई की जान

...तो इस छोटी सी बात के लिए छोटे भाई ने ली अपने बड़े भाई की जान

India TV News Desk [ Updated 29 Nov 2016, 13:03:11 ]
...तो इस छोटी सी बात के लिए छोटे भाई ने ली अपने बड़े भाई की जान - India TV

नई दिल्ली: उत्तरी दिल्ली के बुराड़ी इलाके में संस्कृत के 28 वर्षीय प्रोफेसर की उसके छोटे भाई ने हत्या कर दी। पढ़ाई करने और बुरी संगत से दूर रहने पर डांटा जिससे खफा होकर छोटे भाई से अपनी भाई की डंडे से पीट-पीटकर मौत के घाट उतार दिया।

ये भी पढ़े-

प्रोफेसर के छोटे भाई ने पुलिस को भी गुमराह करने की कोशिश की। इसके लिए उसके लूटपाट की झूठी कहानी सुनाकर गुहराह किया, लेकिन कड़ी पूछताछ के बाद वह टूट गया।

छोटे भाई को कामयाब इंसान देखना का सपना बना मौत का कारण
पुलिस के अनुसार मूलरूप से झांसी, उत्तर प्रदेश निवासी हितेश कुमार (29) छोटे भाई हिमांशु कुमार (24) के साथ बुराड़ी की बंगाली कॉलोनी में पहली मंजिल स्थित फ्लैट में किराये पर रहते थे।

बड़ा भाई दिल्ली यूनिवर्सिटी के एक कॉलेज में असिस्टेंट प्रोफेसर था। वो चाहता था कि छोटा भाई भी पढ़ लिखकर अच्छी जॉब करे। जिसके कारण उसे बेवजह घूमने से रोकता था। यही बात प्रोफेसर के छोटे भाई को बुरी लगी और एक दिन अपने बड़े भाई की हत्या कर दी। हिमांशु दिल्ली के श्रीराम कॉलेज ऑफ कॉमर्स का छात्र है।

रची लूटपाट की झूठू कहानी
27 नवंबर की रात करीब 2 बजकर 30 मिनट पर दिल्ली पुलिस के कंट्रोल रूम में हिमांशु फोन कर लूटपाट कू कबर देता है। जिसमें हिमांशु ने कहा कि रात में 4 लड़के जबरन घर में दाखिल हुए। मारपीट की और उसके बड़े भाई असिस्टेंट प्रोफेसर हितेश कुमार को पीट-पीटकर अधमरा कर दिया और फरार हो गए।

ऐसे हुआ पुलिस को शक
जब पुलिस ने हिमांशु से पूछा तो उसने 4 बदमाश धूसने की कहानी सुना दी, लेकिन पुलिस को यह नहीं समझ आ रहा था कि आखिर बदमाश आए क्यों। आप-पड़ोस में पता किया तो पता चला कि  हितेश बहुत ही अच्छे व्यवहार का व्यक्ति थे।  इसके बाद पुलिस का पूरा शक हिमांशु पर गया। जिससे कड़ी पूछताछ के बाद वह टूट गया और उसने बताया कि रोकटोक से वह परेशान हो गया था। उस रात भी यही हुआ जिसके बाद वह भड़क गया और डंडे से पीट-पीटकर उनको लहूलुहान कर दिया। जिसकी बाद में मौत हो गई।

देखे वीडियो-

Read Complete Article
Related Tags:
loading...