Ford Assembly election results 2017
 
  1. You Are At:
  2. होम
  3. भारत
  4. राष्ट्रीय
  5. उत्तर भारत शीतलहर की चपेट में, तापमान में हो सकती है और गिरावट

उत्तर भारत शीतलहर की चपेट में, तापमान में हो सकती है और गिरावट

उत्तर भारत के इलाकों में बुधवार को शीतलहर का असर तेज हो गया। जम्मू एवं कश्मीर में भी शीतलहर का तेज असर जारी है।

IANS [Updated:11 Jan 2017, 11:06 PM IST]
Cold wave- Khabar IndiaTV
Cold wavePhoto:PTI

नई दिल्ली: बीते पांच दिनों में पहाड़ी राज्यों में हुई बर्फबारी के बाद बर्फीली हवाओं के चलने से मैदानी भागों में ज्यादातर जगहों पर तापमान में कमी आई है। उत्तर भारत के इलाकों में बुधवार को शीतलहर का असर तेज हो गया। जम्मू एवं कश्मीर में भी शीतलहर का तेज असर जारी है। श्रीनगर में न्यूनतम तापमान शून्य से 4.1 डिग्री सेल्सियस नीचे और अधिकतम तापमान 6.2 डिग्री दर्ज किया गया।

(देश-विदेश की बड़ी खबरें पढ़ने के लिए क्लिक करें)

मौसम विभाग ने कहा कि शुष्क मौसम के अगले 48 घंटों के बने रहने के दौरान रात के तापमान में आगे और गिरावट आ सकती है।पहलगाम में न्यूनतम तापमान में शून्य से 12.4 डिग्री सेल्सियस की कमी आई और गुलमर्ग में यह शून्य से 13 डिग्री सेल्सियस नीचे दर्ज किया गया। हिमाचल प्रदेश के पर्यटक केंद्र शिमला और मनाली में भारी ठंड रही। यहां न्यूनतम तापमान क्रमश: शून्य से 3.2 डिग्री और 6.6 डिग्री नीचे दर्ज किया गया। मनाली का अधिकतम तापमान 2.8 डिग्री रहा जो सामान्य से आठ डिग्री नीचे रहा।

पंजाब का अमृतसर मैदानी भागों में सबसे ठंडा स्थान रहा। यहां न्यूनतम तापमान 0.9 डिग्री और अधिकतम 17.6 डिग्री दर्ज किया गया। लुधियाना और पटियाला में यह क्रमश: 1.6 डिग्री और 2.7 डिग्री दर्ज किया गया। यह सामान्य से 4 डिग्री कम रहा। चंडीगढ़ में भी लोगों को न्यूनतम तापमान के 2.4 डिग्री होने से कड़ी ठंड का सामना पड़ा। यहां तापमान सामान्य से दो डिग्री कम रहा। यह अधिकतम तापमान 16.1 डिग्री रहा। शहर और आसपास के इलाकों में बर्फीली हवाओं का कहर जारी है।

पंजाब में चार फरवरी को होने वाले विधानसभा चुनावों के नामांकन का बुधवार को पहला दिन होने के कारण उम्मीदवारों और समर्थकों को तेज हवाओं का सामना करना पड़ा। पड़ोसी राज्य उत्तराखंड में बर्फबारी होने के कारण उत्तर प्रदेश के कई इलाकों में शीत लहर के कारण बुधवार को ठंड में बढ़ोतरी हुई। लखनऊ के सुबह के तापमान में 8 डिग्री सेल्सियस की कमी दर्ज की गई। एक अधिकारी ने बुधवार को कहा कि ठंड के कारण सभी स्कूलों को राजधानी में 15 जनवरी तक बंद रखने को कहा गया है।

ठंड की वजह से राजस्थान के भागों में भी न्यूनतम तापमान में कमी आई है। माउंट आबू में तापमान शून्य से 2.4 डिग्री नीचे रहा। चुरु मैदानी इलाकों में सबसे ठंडा रहा। जयपुर में न्यूनतम तापमान 3.8 डिग्री सेल्सियम रहा, यह सामान्य से 5 डिग्री नीचे रहा। राष्ट्रीय राजधानी में भी बुधवार को तेज ठंड रही। यहां न्यूनतम तापमान में चार डिग्री सेल्सियस की कमी रही। यह मौसम के औसत तापमान से 3 डिग्री नीचे रहा और यह इस सीजन का सबसे कम तापमान रहा। मौसम विभाग ने अपने पूर्वानुमान में कहा कि बारिश की संभावना नहीं है और शीत लहर में 13 जनवरी के बाद कमी आएगी।

You May Like