1. Home
  2. भारत
  3. राष्ट्रीय
  4. जानें, भारत के अगले उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू के बारे में 10 खास बातें

जानें, भारत के अगले उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू के बारे में 10 खास बातें

NDA उम्मीदवार वेंकैया नायडू ने भारत के उपराष्ट्रपति पद का चुनाव जीत लिया है। पर्याप्त संख्या बल होने के कारण राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (NDA) के उम्मीदवार वेंकैया नायडू की जीत पहले से ही तय मानी जा रही थी।

Written by: Khabarindiatv.com [Published on:05 Aug 2017, 7:25 PM IST]
जानें, भारत के अगले उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू के बारे में 10 खास बातें

नई दिल्ली: NDA उम्मीदवार वेंकैया नायडू ने भारत के उपराष्ट्रपति पद का चुनाव जीत लिया है। पर्याप्त संख्या बल होने के कारण राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (NDA) के उम्मीदवार वेंकैया नायडू की जीत पहले से ही तय मानी जा रही थी। वह भैरों सिंह शेखावत के बाद राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (RSS) की पृष्ठभूमि वाले दूसरे उपराष्ट्रपति होंगे। उपराष्ट्रपति पद के लिए नायडू का मुकाबला विपक्षी उम्मीदवार गोपालकृष्ण गांधी से था। आइए, जानते हैं भारत के अगले उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू के बारे में 10 खास बातें...

1- वेंकैया नायडू का जन्म 1 जुलाई 1949 को आंध्र प्रदेश के नेल्लोर जिले में हुआ था।

2- नायडू ने नेल्लोर से स्कूली पढ़ाई पूरी करने के बाद वी. आर. कॉलेज से पॉलिटिक्स ऐंड डिप्लोमैटिक स्टडीज में ग्रैजुएशन किया। उसके बाद विशाखापट्टनम के लॉ कॉलेज से अंतरराष्ट्रीय कानून में डिग्री ली।

3- अपने कॉलेज के दिनों के दौरान ही वह राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से जुड़ गए थे। वह अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के भी सदस्य थे।
 
4- नायडू ने 14 अप्रैल, 1971 को उषा से शादी की। उनके बेटे का नाम हर्षवर्धन जबकि बेटी का नाम दीपा वेंकट है।

5- नायडू पहली बार 1972 में जय आंध्रा आंदोलन से सुर्खियों में आए। 1975 में वह इमरजेंसी के दौरान जेल भी गए थे। 

6- वेंकैया नाडडू 1978 में पहली बार सिर्फ 29 साल की उम्र में विधायक बने। उन्होंने 1983 में हुए विधानसभा चुनावों में भी जीत दर्ज की। धीरे-धीरे उन्होंने प्रदेश में बीजेपी के बड़े नेता के तौर पर पहचान बनाई।

7- बीजेपी के विभिन्न पदों पर रहने के बाद नायडू पहली बार कर्नाटक से 1998 में राज्यसभा के लिए चुने गए। इसके बाद वह 2004, 2010 और 2016 में भी राज्यसभा सांसद बने।

8- 1999 में NDA की जीत के बाद उन्हें अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार में ग्रामीण विकास मंत्रालय का प्रभार दिया गया।

9- 2002 में नायडू पहली बार बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष बने। वह दिसंबर 2002 तक पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष रहे। इसके बाद 2004 में उन्हें दोबारा इस पद के लिए चुना गया, हालांकि लोकसभा चुनावों में NDA की हार के बाद उन्होंने इस्तीफा दे दिया।

10- 2014 में NDA की सरकार बनने के बाद उन्हें शहरी विकास मंत्रालय का जिम्मा दिया गया। वह 5 जुलाई 2016 से लेकर 17 जुलाई 2017 तक सूचना और प्रसारण मंत्री भी रहे।

Related Tags: