1. Home
  2. भारत
  3. राष्ट्रीय
  4. भारत की शान ब्रह्मोस के 10 तथ्य जिसकी वजह से कांपते हैं दुश्मन!

भारत की शान ब्रह्मोस के 10 तथ्य जिसकी वजह से कांपते हैं दुश्मन!

नई दिल्ली: भारतीय नौसेना ने आज बंगाल की खाड़ी में ब्रह्मोस सुपरसोनिक मिसाइल का सफल परीक्षण किया। भारत और रूस के द्वारा विकसित की गई अब तक की सबसे आधुनिक प्रक्षेपास्त्र प्रणाली है

India TV News Desk [Updated:21 Apr 2017, 4:06 PM IST]
भारत की शान ब्रह्मोस के 10 तथ्य जिसकी वजह से कांपते हैं दुश्मन!

नई दिल्ली: ब्रह्मोस भारत और रूस के द्वारा विकसित की गई अब तक की सबसे आधुनिक प्रक्षेपास्त्र प्रणाली है और इसने भारत को मिसाइल तकनीक में अग्रणी देश बना दिया है। इसका रविवार 1 नवंबर 2015 को नौसेना के सबसे नए स्टील्थ विनाशक जहाज आईएनएस कोच्चि से सफलतापूर्वक परीक्षण किया गया। अरब सागर में सेवामुक्त किया जा चुका एक जहाज इसका लक्ष्य था, जिसे इसने सफलतापूर्वक भेद दिया।

यह दुनिया की एकमात्र सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल है, जो भारत के सैन्य कौशल का प्रतीक है। इस मिसाइल के लिए अगले 20 साल तक कोई चुनौती नहीं है। यह दावा किया था ब्रह्मोस के जनक शिवतनु पिल्लई ने।

ब्रह्मोस की मारक क्षमता ने अमेरिका और अन्य उत्तरी अटलांटिक राष्ट्रों को भयाक्रांत किया हुआ है। अमेरिकन रक्षा विशेषज्ञ इसे अबूझ पहेली के रूप में देख रहे हैं। निर्विवाद रूप से अमेरिका विश्व की सबसे बड़ी सैन्य ताकत है, परन्तु भारतीय तकनीक से बनी ब्रह्मोस और उसकी अप्रत्याशित स्पीड ने उसे भारत की सामरिक क्षमता को स्वीकारने के लिए विवश कर दिया है।

ये हैं सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल ब्रह्मोस के 10 कारण जिस वजह से भारत के दुश्मन हैं भयभीत..........

ऐसा माना जाता है कि ब्रह्मोस को मार गिराना लगभग असंभव है, क्योंकि इसकी गति लगभग 2-3 मैक है इसलिए इसका पता लगाना बेहद कठिन है। नाटो के पास सिर्फ 1 से 1.5 मैक की गति की मिसाइल को रोकने की क्षमता है। हालांकि वह अब दावा करता है कि वह 2 मैक की गति की एंटी-शिप मिसाइल को वह नष्ट कर सकता है।

Related Tags: