1. Home
  2. सिनेमा
  3. बॉलीवुड
  4. 'Force 2' Movie Review: एक्शन और थ्रिल से भरपूर, लेकिन कमजोर कहानी

'Force 2' Movie Review: एक्शन और थ्रिल से भरपूर, लेकिन कमजोर कहानी

जॉन अब्राहम और सोनाक्षी सिन्हा के अभिनय से सजी फिल्म 'फोर्स 2' शुक्रवार को सिनेमाघरों में रिलीज हो चुकी है। यह 2011 में आई फिल्म 'फोर्स' का सीक्वल है। इस फिल्म के अंत को देखकर लगा था कि...

India TV Entertainment Desk [Updated:18 Nov 2016, 3:08 PM IST]
'Force 2' Movie Review: एक्शन और थ्रिल से भरपूर, लेकिन कमजोर कहानी

नई दिल्ली: जॉन अब्राहम और सोनाक्षी सिन्हा के अभिनय से सजी फिल्म 'फोर्स 2' शुक्रवार को सिनेमाघरों में रिलीज हो चुकी है। यह 2011 में आई फिल्म 'फोर्स' का सीक्वल है। इस फिल्म के अंत को देखकर लगा था कि इसका दूसरा भाग भी वहीं से शुरु किया जाएगा। फिल्म की पूरी कहानी रॉ के एजेंट्स पर आधारित है। फिल्म 'डेल्ही बेली' से अपनी पहचान बनाने वाले निर्देशक अभिनव देव से फिल्म में बेहतरीन एक्शन सीन्स डाले हैं। दर्शकों को लंबे वक्त से इस फिल्म की रिलीज की इंतजार था।

इसे भी पढ़े:-

कहानी:-

फिल्म की शुरुआत होती है चीन के शंघाई शहर से जहां रॉ एजेंट हरीश चतुर्वेदी की हत्या कर दी जाती है। हरीश मुंबई पुलिस ऑफिसर यशवर्धन (जॉन अब्राहम) का दोस्त है। हरीश के बाद 2 और रॉ एजेंट्स की भी हत्या कर दी जाती है। लेकिन हरीश मरने से कुछ दिन पहले ही यश को एक किताब देता है जिसमें रॉ की काफी सूचनाएं होती है। इसमें उन रॉ एजेंट्स का नाम भी कोड में लिखा होता है जिन्हें मारने की सूचना होती है। इसके बाद मुंबई में रॉ के हेड क्वाटर में एक मीटिंग की जाती है जिसमें यश को रॉ एजेंट्स की हत्या की जांच के लिए एक टीम में लेने का फैसला किया जाता है। इस टीम में यश के साथ केके (सोनाश्री सिन्हा) भी होती है। काफी जांच पड़ताल करने के बाद इनका शक बुडापेस्ट की इंडियन एंबेसी के स्टाफ की ओर जाता है। इसके बाद यश और केके अपनी ही तरह से जांच करना शुरु करते हैं। इस दौरान इन पर जानलेवा हमला भी होता है। काफी खोजबीन के बाद इनकी नजरें इसी एंबेसी में काम करने वाले शिव शर्मा (ताहिर राज भसीन) पर पड़ती है। अब इनका मिशन है कि उसे गिरफ्तार करके मुंबई ले जाना। लेकिन यह काम इनके लिए बेहद मुश्किल हो जाता है। लेकिन बेहतरीन एक्सन से भरपूर इस फिल्म की कहानी कुछ कमजोर लगती है।

अभिनय:-

फिल्म में जॉन के अभिनय की काफी सराहना की जा सकती है। उनके एक्शन सीन्स को भी पूरे नंबर दिए जा सकते हैं। लेकिन वह फेस एक्सप्रेशन पर थोड़ा और काम कर सकते थे, जो शुरु से अंत एक ही जैसे थे। हालांकि शर्ट उतारकर एक्शन करना उन पर काफी जचता भी है। सोनाक्षी भी फिल्म में काफी एक्शन सीन्स करती हुई नजर आ रही हैं। यह एक बार फिर से उनकी फिल्म 'अकीरा' की याद दिलाती है। वहीं ताहिर राज भसीन ने 'मर्दानी' के बाद एक बार फिर से इस फिल्म में अपने अभिनय का लोहा मनवाया है।

निर्देशन:-

अभिनव देव ने फिल्म में थ्रिलर और एक्शन पर काफी अच्छा काम किया है। वहीं उन्होंने बुडापेस्ट की खूबसूरत लोकेशन्स भी दिखाई हैं। फिल्म में जॉन के संवाद काफी बेहतरीन हैं।

क्यों देखें:-

अगर आप रॉ एजेंट्स के बारे में जानने के शौकीन और एक्शन फिल्में देखना पसंद करते हैं तो इस फिल्म को देखने जा सकते हैं। खासकर जॉन का एक्शन आपको निराश नहीं करेगा।

You May Like