Ford Assembly election results 2017 Akamai CP Plus
  1. You Are At:
  2. होम
  3. सिनेमा
  4. बॉलीवुड
  5. अनुराग कश्यप ने बताया वापस लौट रहा है फिल्मों का ये दौर

अनुराग कश्यप ने बताया वापस लौट रहा है फिल्मों का ये दौर

अनुराग कश्यप का मानना है कि हिन्दी फिल्म जगत में सामाजिक-राजनीतिक मुद्दों पर फिल्म बनाने का दौर लौट रहा है। अनुराग कश्यप की आगामी फिल्म ‘मुक्काबाज’ में जातिवाद के साथ साथ भ्रष्टाचार को दिखाने की कोशिश की गई है। अनुराग का कहना है कि...

Edited by: India TV Entertainment Desk [Published on:07 Dec 2017, 5:00 PM IST]
anurag kashyap- Khabar IndiaTV
anurag kashyap

मुंबई: सिनेमाजगत में पिछले कुछ वक्त से कई अहम मुद्दों पर फिल्में बनाई जा रही है। इसे लेकर अब फिल्मकार अनुराग कश्यप का मानना है कि हिन्दी फिल्म जगत में सामाजिक-राजनीतिक मुद्दों पर फिल्म बनाने का दौर लौट रहा है। अनुराग कश्यप की आगामी फिल्म ‘मुक्काबाज’ में जातिवाद के साथ साथ भ्रष्टाचार को दिखाने की कोशिश की गई है। अनुराग का कहना है कि 1960 के दशक में विमल रॉय और ऋषिकेश मुखर्जी की फिल्में ज्यादातर सामाजिक समस्याओं पर आधारित होती थीं और इन मुद्दों को अत्यंत सावधानी से फिल्मी पर्दे पर पेश किया जाता था ठीक उसी प्रकार से उन्होंने भी अपनी कहानी के साथ न्याय करने की कोशिश की है।

अनुराग ने एक साक्षात्कार में कहा, ‘‘हम जिस समय बड़े हो रहे थे उस समय सामाजिक-राजनीतिक फिल्में बन रही थी। विमल रॉय, ऋषकेष मुखर्जी, राज कपूर जैसे फिल्म निर्माता ‘जातिवाद’, ‘विधवा’, ‘कुंवारी मांओं’ सहित अन्य समाजिक विषयों पर फिल्म बनाते थे। दर्शक इन फिल्मों की सराहना करते थे लेकिन हमने ऐसी फिल्में बनानी बंद कर दी पर एक बार फिर वह चलन वापस (फिल्मों में) आ गया है।’’

उन्होंने आगे बताया, ‘‘हमारी फिल्म बॉक्सिंग पर है, ऐसे में हम अपनी कहानी को लेकर बहुत ईमानदार हैं। इसमें बताया गया है कि एक बॉक्सर कहां से आता है, समाज में बॉक्सिंग की क्या स्थिति और उसे कितना पसंद किया जाता है।’’ फिल्म में उत्तरप्रदेश के बॉक्सर श्रवण सिंह की कहानी को दिखाया गया है जो एक पिछड़ी जाति से तल्लुक रखते हैं और उन्हें ब्राह्मण महिला से प्रेम हो जाता है। इस फिल्म का निर्माण आनंद एल राय कर रहे हैं।

You May Like