1. Home
  2. बिज़नेस
  3. जानें शिंजो आबे की इंडिया विजिट से जुड़ी 10 अहम बातें

जानें शिंजो आबे की इंडिया विजिट से जुड़ी 10 अहम बातें

वाराणसी के घाट पर गंगा आरती और सेल्‍फी क्लिक से पहले जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे और भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बीच हुए समझौते दोनों देशों के आर्थिक और राजनीतिक भविष्‍य की नजर से बेहद अहम हैं।

India TV News Desk [Published on:13 Dec 2015, 11:53 AM IST]
जानें शिंजो आबे की इंडिया विजिट से जुड़ी 10 अहम बातें

नई दिल्‍ली: वाराणसी के घाट पर गंगा आरती और सेल्‍फी क्लिक से पहले जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे और भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बीच हुए समझौते दोनों देशों के आर्थिक और राजनीतिक भविष्‍य की नजर से बेहद अहम हैं। अबे ने जहां एक ओर भारत में बुलट ट्रेन चलाने के लिए 80 फीसदी फंडिंग का करार किया वहीं दूसरी ओर भारत में बनी मारुति की कारों को जापान की सड़कों पर दौड़ाने के लिए ग्रीन सिग्‍नल दिया। तीन दिनों की भारत दौरा खत्म होने के बाद शिंजो आबे जापान के रवाना हो चुके हैं। इंडिया टीवी पैसा अपनी इस रिपोर्ट में शिंजो आबे की विजिट से जुड़े उन तमाम महत्‍वपूर्ण बिंदुओं को अपने पाठकों के समक्ष संक्षिप्‍त रूप  में रख रहा है, जिन्‍हें जानना आपके लिए बेहद जरूरी है।

भारत में बुलट ट्रेन के सपने को पूरा करेगा जापान

आबे की विजिट के दौरान भारत और जापान के बीच सबसे अहम करार बुलट ट्रेन को लेकर हुआ। जापान इस प्रोजेक्‍ट की 80 फीसदी तक फंडिंग के लिए तैयार हो गया है। पहली बुलट ट्रेन मुंबई और अहमदाबाद के बीच चलेगी। इससे दोनों शहरों के बीच 505 किलोमीटर का सफर सिर्फ 3 घंटे में पूरा होगा। बुलट ट्रेन जापान की वित्‍तीय संस्‍था जाइका के मुताबिक इस प्रोजेक्‍ट पर करीब 98000 करोड़ रुपए का खर्च आएगा। जिसमें से करीब 80 हजार करोड़ रुपए का कर्ज जापान देगा। यह आसान कर्ज 50 साल के लिए होगा। जिस पर ब्‍याज की दर 0.1 फीसदी होगी।

जापान में बिकेगी भारत में बनी मारुति

जापान दुनिया का प्रमुख ऑटोमोबाइल केंद्र है। भारत में कारोबार करने वाली सुजुकी होंडा टोयोटा जैसी कंपनियां जापान मूल की हैं। लेकिन अब जल्‍द ही भारत जापान को कार निर्यात करने की स्थिति में होगा। शिंजो आबे के साथ प्रेस कॉन्‍फ्रेंस के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि जापान पहली बार भारत से कारें आयात करेगा। जल्‍द ही मारुति (सुजुकी) भारत में निर्मित मारुति कारें जापान को निर्यात करेगी। मारुति सुजुकी के चेयरमैन ने आर सी भार्गव ने कहा कि कंपनी शुरुआत में बलेनो का एक्सपोर्ट करेगी।

भार‍तीयों को मिलेगा मल्‍टीपल वीजा जापानियों को वीजा ऑन अराइवल

भारत के टूरिस्‍ट बिजनेस में जापानी पर्यटकों का अहम योगदान है। इसे देखते हुए भारत ने जापान के लोगों के लिए वीजा ऑन अराइवल की घोषणा की है। इस योजना की शुरूआत अगले साल मार्च से होने की संभावना है। इसके बाद अब जापान से आने वाले पर्यटक और अन्‍य लोग भारत आकर वीजा ले पाएंगे। इस मौके पर जापान के पीएम ने भी भारत के लिए मल्टिपल एंट्री वीजा सुविधा देने की घोषणा की। इसके तहत बार बार वीजा लेने की झंझट नहीं पड़ेगी।

जापान में ‘मेक इन इंडिया’   

मोदी ने कहा जापान में आज एक ‘मेक इन इंडिया’ आंदोलन है। मुझे बताया गया है कि इसके लिए 11 से 12 अरब डॉलर की राशि निर्धारित की गई है। यह स्पष्ट रूप से बताता है कि दोनों देश आगे बढ़ सकते हैं। उन्होंने कहा कि मेक इन इंडिया मुहिम केवल भारत ही नहीं बल्कि जापान में भी ‘मिशन मोड’ में आगे बढ़ रही है।

बिजली की जरूरत पूरी करेगी न्‍यूक्लियर डील

भारत के विकास के लिए ऊर्जा सबसे अहम आवश्‍यकता है। जापान भारत की इस अहम जरूरत में अपना पूरा योगदान देगा। शनिवार को दोनों देशों के बीच 5 साल से अटकी सिविल न्यूक्लियर सहयोग को लेकर समझौता हुआ है। इसके तहत अब जापान, भारत में न्यूक्लियर पावर के लिए इन्वेस्ट कर सकेगा। इसका सीधा फायदा ऊर्जा की जरूरतों को पूरा करने में मदद मिलेगी।

भारत को डिफेंस टैक्‍नोलॉजी देगा जापान

भारत और जापान के बीच आज रक्षा साजोसामान को लेकर भी अहम समझौता हुआ है। इसके तहत जापान, भारत को दुनिया की आधुनिक डिफेंस टेक्‍नोलॉजी देगा। इसके अलावा डिफेंस कम्‍युनिकेशन सिस्‍टम के क्षेत्र में भी जापान भारत को तकनीक मुहैया कराएगा। जापान मेक इन इंडिया के तहत भारत में डिफेंस मैन्‍युफैक्‍चरिंग में भी मदद देगा।

नॉर्थ ईस्‍ट में जापानी मदद से बनेंगी सड़कें

जापान भारत को चीन सीमा से जुड़े क्षेत्रों में सड़क बनाने में भी मदद करगा। इसके तहत भारत के उत्‍तर पूर्वी राज्‍यों में बड़े पैमाने में सड़कों का निर्माण होगा। अभी भारत को इस इलाके में सड़कों का नेटवर्क काफी कम है। जबकि चीन इन क्षेत्रों में सड़कें रेल और हवाई सुविधा विकसित कर रहा है।

भारत को हाईस्‍पीड ट्रेन के साथ चाहिए फास्‍ट डेवलपमेंट

शिंजो आबे से मुलाकात के दौरान प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि भारत को न केवल तीव्र गति की ट्रेन चाहिये बल्कि उच्च आर्थिक वृद्धि भी चाहिये। उन्होंने कहा कि भारत-जापान व्यावसायिक मंच ने दोनों देशों के बीच विभिन्न संभावनाओं पर विचार किया है। आर्थिक मोर्चे पर जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे ने कहा कि दोनों देश नजदीकी से काम करना चाहेंगे। इससे दोनों को फायदा होगा। उन्होंने कहा, मजबूत जापान, भारत के लिये अच्छा है और मजबूत भारत, जापान के लिये अच्छा है।

बुलेट ट्रेन की रफ्तार से काम करते हैं मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सराहना करते हुए जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे ने कहा कि वह नीतियों का क्रियान्वयन बुलेट ट्रेन की रफ्तार से कर रहे हैं। आबे ने भारत-जापान कारोबार प्रतिनिधि मंच को संबोधित करते हुए कहा कि प्रधानमंत्री मोदी की आर्थिक नीतियां बुलेट ट्रेन की तरह तेज रफ्तार, सुरक्षित और भरोसेमंद और कई लोगों को एकसाथ लेकर चलने वाली हैं। देश के तीन दिवसीय दौरे पर आये जापानी प्रधानमंत्री ने भारती एयरटेल, आईसीआईसीआई बैंक और टीसीएस समेत कई प्रमुख कारपोरेट घरानों के प्रतिनिधियों से मुलाकात की।

शिंजो बोले- मजबूत भारत हमारे लिए भी अच्छा

शिंजो आबे ने कहा कि मजबूत भारत जापान के लिए भी अच्छा है। वहीं, पीएम मोदी ने कहा कि भारत को सिर्फ हाई स्पीड ट्रेन ही नहीं, हाई स्पीड ग्रोथ भी चाहिए। मोदी ने भारत और जापान की दोस्ती का परिचय देते हुए कहा कि भारत के हर टर्निंग पॉइंट पर जापान उसके साथ खड़ा हुआ दिखाई देता है।

You May Like