1. Home
  2. पैसा
  3. बाजार
  4. जीएसटी के दम पर सेंसेक्स 29,000...

जीएसटी के दम पर सेंसेक्स 29,000 अंक के पार, पहुंचा दो साल के उच्चस्तर पर

सेंसेक्स 216 अंक की छलांग के साथ 29,000 अंक को पार कर दो साल के उच्चस्तर पर पहुंच गया। रिलायंस इंडस्ट्रीज के शेयरों में तेजी से सेंसेक्स में उछाल आया।

Dharmender Chaudhary 06 Mar 2017, 18:14:59 IST
Dharmender Chaudhary

मुंबई। बंबई शेयर बाजार का सेंसेक्स सोमवार को 216 अंक की छलांग के साथ 29,000 अंक को पार कर दो साल के उच्चस्तर पर पहुंच गया। मिले जुले वैश्विक रूख के बीच रिलायंस इंडस्ट्रीज के शेयरों में जोरदार तेजी से सेंसेक्स में उछाल आया। वहीं, निफ्टी भी 65.90 अंक (0.74 प्रतिशत) चढ़कर 8,963.45 अंक पर पहुंच गया।

शक्तिशाली जीएसटी परिषद ने केंद्रीय जीएसटी (सी-जीएसटी) और एकीकृत जीएसटी (आई-जीएसटी) के अंतिम मसौदे को मंजूरी दे दी है। जीएसटी की 16 मार्च को होने वाली अगली बैठक में राज्य जीएसटी और संघ शासित प्रदेश जीएसटी विधेयकों के मसौदे मंजूरी ली जाएगी। इन कदमों से निवेशकों का भरोसा बढ़ा है।

पूरे दिन के कारोबार पर एक नजर

  • सेंसेक्स कारोबार के दौरान 29,070.20 अंक के उच्चस्तर पर पहुंचा
  • इसके बाद अंत में 215.74 अंक या 0.75 प्रतिशत की बढ़त के साथ 29,048.19 अंक पर बंद हुआ।
  • यह 5 मार्च, 2015 के बाद सेंसेक्स का उच्चस्तर है।
  • उस दिन सेंसेक्स 29,448.95 अंक पर बंद हुआ था।
  • पिछले दो सत्रों में सेंसेक्स 152.04 अंक टूटा था।
  • नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी भी 65.90 अंक या 0.74 प्रतिशत के लाभ से 8,963.45 अंक पर पहुंच गया।
  • यह 3 मार्च, 2015 के बाद इसका उच्च स्तर है।
  • उस दिन निफ्टी 8,996.25 अंक पर बंद हुआ था।
  • डॉलर के मुकाबले रुपए की मजबूती से भी बाजार को लाभ मिला।

इस कंपनियों के शेयर में सबसे ज्यादा तेजी

  • सेंसेक्स की कंपनियों में रिलायंस इंडस्ट्रीज का शेयर 3.69 प्रतिशत के लाभ से 9 साल के उच्चस्तर 1,304.90 रुपए पर पहुंच गया।
  • कंपनी ने घोषणा की है कि प्रवर्तक अपनी शेयरधारिता में बदलाव कर रहे हैं।
  • ड्रेजिंग कॉरपोरेशन का शेयर 12.68 प्रतिशत की बढ़त के साथ 502 रुपए पर पहुंच गया।
  • संभावित हिस्सेदारी बिक्री की खबरों से कंपनी के शेयरों में तेजी आई।
  • एशियाई बाजारों में चीन का शंघाई कम्पोजिट और हांगकांग का हैंगसेंग लाभ में रहा।
  • जापान के निक्की में गिरावट आई। शुरुआती कारोबार में यूरोपीय बाजार नीचे चल रहे थे।