1. Home
  2. पैसा
  3. बिज़नेस
  4. WEF में नोटबंदी पर PM मोदी...

WEF में नोटबंदी पर PM मोदी की हुई तारीफ, एक्सपर्ट्स ने कहा- लॉन्ग टर्म में मजबूत होगी भारत की अर्थव्यवस्था

WEF में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नोटबंदी फैसले की तारीफ की गई है। WEF सर्वे में कहा गया है कि भारत की अर्थव्यवस्था के प्रति दुनिया का दृष्टिकोण बदला है

Ankit Tyagi 19 Jan 2017, 7:55:41 IST
Ankit Tyagi

नई दिल्ली। दावोस में चल रहे वर्ल्ड इकॉनमिक फोरम (WEF) में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नोटबंदी फैसले की तारीफ की गई है। ब्लूमबर्ग की रिपोर्ट के मुताबिक स्विट्जरलैंड के वर्ल्ड इकॉनमिक फोरम में प्रकाशित स्टडीज और सर्वे में कहा गया है कि भारत की अर्थव्यवस्था के प्रति दुनिया का दृष्टिकोण बदल है और चीन के मुकाबले अंतर भी कम हुआ है। इसीलिए माना जा रहा है कि यह रिपोर्ट्स प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को ऐसे वक्त में राहत देने वाली हैं, जब विपक्ष नोटबंदी के चलते उन पर अर्थव्यवस्था को पटरी से उतारने के आरोप लगा रहा है।

यह भी पढ़ें : पाकिस्तान के मुकाबले बेहद पावरफुल है भारत का Passport, जानिए अमेरिका समेत अन्य देशों की क्या हैं रैंकिंग

इसलिए बढ़ा भारतीय अर्थव्यवस्था पर भरोसा

  • भारत की अर्थव्यवस्था में भरोसे की बड़ी वजह यह है कि पीएम मोदी की ओर से नोटबंदी के फैसले के बाद भी भारत में कन्जयूमर डिमांड अब भी एशिया में सबसे अधिक बनी हुई है।
  • मास्टरकार्ड सर्वे के मुताबिक जून-दिसंबर 2016 में कन्जयूमर सेंटिमेंट में 2.4 पॉइंट्स की कमी आई थी, लेकिन अब बाजार उम्मीदों से भरा है।

यह भी पढ़ें : नीति आयोग ने बनाई नई योजना, अब राज्यों को डिजिटल कामकाज के आधार पर मिलेगी रैंकिंग

अब भारतीय अर्थव्यवस्था से है चीन से ज्यादा उम्मीदें

  • पॉलिसी मेकर्स को नीतियों के निर्माण के लिए श्रेय देना होगा। अर्थशास्त्रियों  के सर्वे में शामिल 20 फीसदी लोगों ने माना है कि उन्हें भारत की अर्थव्यवस्था से चीन से भी अधिक उम्मीदें हैं।

आर्थिक सुधारों में तेजी की मांग

  • 2011 के मुकाबले दुनिया के चीफ एग्जिक्यूटिव्स का भारत की अर्थव्यवस्था को लेकर उत्साह कमजोर हुआ है।
  • इनका मानना है कि भारत में सांगठनिक सुधार उतनी तेजी से नहीं हो पाए हैं, जितनी जरूरत है। कुल 79 देशों के 1400 CEOs ने यह राय दी है।

भारत की अर्थव्यवस्था पर क्या कह रही है दुनिया 

अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (IMF) के अनुसार नोटबंदी के चलते निकट भविष्य में अर्थव्यवस्था पर असर पड़ेगा, लेकिन लॉन्गटर्म में सुधार देखने को मिलेगा।

IMF ने भारत के जीडीपी अनुमान को 7.6 से घटाकर 6.6 पर्सेंट कर दिया है।

अंतरराष्ट्रीय संस्था के रिसर्च डायरेक्टर मॉरी ऑब्स्टफेल्ड ने कहा, जीडीपी अनुमान घटाने के बाद भी भारत की अर्थव्यवस्था मजबूत बनी रहेगी। उन्होंने कहा, हम इस बात से सहमत हैं कि नोटबंदी के चलते अर्थव्यवस्था से अवैध ट्रांजेक्शंस पर लगाम कसने में मदद मिलेगी।