1. Home
  2. लाइफस्टाइल
  3. जीवन मंत्र
  4. 2 नवंबर को शुक्र कर रहा...

2 नवंबर को शुक्र कर रहा है राशिपरिवर्तन, अशुभ प्रभाव से बचने के लिए राशिनुसार करें ये उपाय

शनि, बुध व केतु शुक्र के मित्र हैं, जबकि सूर्य, चंद्र व राहु इसके शत्रु हैं और मंगल व गुरु इसके लिये सम हैं। मीन राशि में शुक्र उच्च का और कन्या राशि में यह नीच का होता है। वहीं पहले, छठे और नवें भाव को छोड़कर अन्य भावों में यह शुभ फल देता है।

Written by: India TV Lifestyle Desk 01 Nov 2017, 8:50:55 IST
India TV Lifestyle Desk

धर्म डेस्क: 2 नवंबर की रात 12 बजकर 01 मिनट पर शुक्र तुला राशि में प्रवेश करेगा और 20 दिसंबर तक इसी राशि में रहेगा। शुक्र एक स्त्री ग्रह है। अंग्रेजी में इसे विनस कहते हैं। शुक्र का कारक भाव सातवां है और इसका रंग दही की तरह सफेद है।

शनि, बुध व केतु शुक्र के मित्र हैं, जबकि सूर्य, चंद्र व राहु इसके शत्रु हैं और मंगल व गुरु इसके लिये सम हैं। मीन राशि में शुक्र उच्च का और कन्या राशि में यह नीच का होता है। वहीं पहले, छठे और नवें भाव को छोड़कर अन्य भावों में यह शुभ फल देता है। लेकिन चंद्र-शुक्र किसी भी तरह शत्रु हों तो माता को आंखों संबंधी कष्ट हो सकता है।

इसके अलावा शुक्र की अशुभ स्थिति में तवचा संबंधी विकार होते हैं। शुक्र की स्थिति अच्छी करने के लिये गाय से संबंधी उपाय करने चाहिए और घी, दही, कपूर मोती आदि दान करना चाहिए। शुक्र के तुला राशि में इस गोचर का विभिन्न राशियों पर क्या असर होगा, किस राशि पर इसके क्या शुभाशुभ प्रभाव होंगे और इसके लिये क्या उपाय करने चाहिए। जानिए उपायों के बारें में....

मेष राशि
आपके सातवें स्थान पर शुक्र का गोचर होगा। आपको माता-पिता से पूरा सुख और सहयोग मिलेगा। आपका अधिकतर समय यात्रा में बीतेगा। शुक्र का यह गोचर जातक को नरम स्वभाव वाला बनायेगा। अगर आपकी जन्मपत्रिका में चन्द्रमा पहले स्थान पर हो तो सास-बहू में प्यार बढ़ेगा। झगड़ों से दूरी बनाकर रखेंगे और लेन-देन में अधिक रुचि नहीं रखेंगे, लेकिन दूसरी स्त्री के वियोग के दुःख से आपकी पैतृक सम्पत्ति को नुकसान हो सकता है। अशुभ स्थिति में शुक्र आपकी संतान के लिये अच्छा नहीं होगा।

शुक्र के अशुभ प्रभावों से बचने के लिये और शुभ फल सुनिश्चित करने के लिए

  • गंदे नाले में 43 दिन तक लगातार नीला फूल डालें।
  • किसी मंदिर में शुक्रवार के दिन कांसे का बर्तन दान करें, साथ ही प्रतिदिन माता-पिता का आशीर्वाद लें।

वृष राशि
शुक्र का यह गोचर आपके छठे स्थान पर होगा। शुक्र के इस गोचर से गृहस्थी में तरक्की होगी। आपका जीवन सुख से बीतेगा। अगर आपकी शादी अभी नहीं हुई है और आपके घर वाले आपके लिये रिश्ता ढूंढ रहे हैं, तो ध्यान रखें कि किसी ऐसे घर में रिश्ता न करें जहां इकलौते लड़का या लड़की हो। 20 दिसंबर तक स्त्री का अपमान करना आप पर भारी पड़ सकता है। संतान से सुख पाने के लिये आपको कोशिश करनी पड़ेगी।

शुक्र के अशुभ प्रभावों से बचने के लिए

  • चांदी की ठोस गोली पास में रखें।
  • ध्यान रखें कि पत्नी जमीन पर नंगे पैर न चले और हर समय चप्पल या जुराब पहने रहे।

ये भी पढ़ें:

अगली स्लाइड में पढ़े और राशियों के बारें में