1. Home
  2. भारत
  3. राजनीति
  4. कांग्रेस कार्यकर्ताओं की पार्टी है नेताओं...

कांग्रेस कार्यकर्ताओं की पार्टी है नेताओं की नहीं: सचिन पायलट

Bhasha 14 Oct 2016, 16:13:36
Bhasha

बीकानेर: राजस्थान प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष सचिन पायलट ने कहा है कि कांग्रेस कार्यकर्ताओं की पार्टी है न कि नेताओं की और यहां हर एक सदस्य कार्यकर्ता के रूप में काम करता है। पायलट ने आज यहां संवाददाताओं से कहा कि कांग्रेस पार्टी में न तो नागपुर के डंडे जैसी कोई परम्परा है और न ही मार्गदर्शक मंडल की रीति। यहां पार्टी के सभी कार्यकर्ता आजीवन स्वेच्छा से पार्टी की सेवा करते हैं और 18 साल की उम्र से लेकर 80 साल की उम्र तक सभी सदस्य पार्टी के कार्यकर्ता हैं।

(देश-विदेश की बड़ी खबरें पढ़ने के लिए क्लिक करें)

उन्होंने भाजपा को मुद्दों को घसीटने वाली पार्टी बताते हुए कहा कि कभी राम तो कभी गौ माता को लेकर हर बार चुनाव में उतरी भाजपा अब सत्ता में आने के बाद दोनों को भूल गई। चाहे राम मंदिर निर्माण की बात हो या जयपुर में हजारों गायों की मौत का मामला, भाजपा ने अब इन पर चुप्पी साध रखी है।

पायलट ने कहा कि भाजपा सदन में भी बहस करने से बचती है। ऐसी सरकार के खिलाफ कांग्रेस जनता की आवाज बनकर सदन से सड़क तक विरोध प्रदर्शन करेगी। आने वाला समय कांग्रेस का है, भाजपा की सरकार जायेगी और कांग्रेस की सरकार आयेगी। जिसको लेकर बीकानेर से चुनावी शंखनाद हो चुका है।

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष पायलट ने राज्य में बिगड़ी कानून व्यवस्था का जिक्र करते हुए कहा कि अपराधों का ग्राफ तो बढ़ गया लेकिन उपलब्धियां नगण्य है। इस बात का खुलासा तो केन्द्रीय गृहमंत्री की रिपोर्ट में भी हो चुका है कि राजस्थान में गैंगवार, बलात्कार, लूट, हत्या, महिला उत्पीड़न सहित अनेक अपराध बढ़े है। जहां तक उपलब्धियों की बात करें तो निजीकरण को बढ़ावा मिला है। स्कूल, उद्योग, कारखाने बंद हो रहे हैं। जल स्वावलंबन के नाम पर लूट मची है। इस योजना में कितना रूपया लग रहा है, ये पैसा कहां से आया और किन लोगों से आया, इसका कोई हिसाब किताब नहीं है। लोगों की शिकायत है कि अधिकारी वर्ग उनसे चंदा वसूल रहे हैं।

पायलट ने भाजपा को दलित व किसान विरोधी पार्टी करार देते हुए कहा कि स्वतंत्रता के बाद पहला मौका है कि प्रदेश में किसी भी दलित को केबिनेट स्तर का मंत्री नहीं बनाया है। किसानों से जो चुनावी वादे किये गए उस पर भाजपा खरी नहीं उतरी। अब तक दस लाख किसान मुआवजे से वंचित है। इस सरकार में हर वर्ग दुखी है।