1. Home
  2. भारत
  3. राजनीति
  4. पीएम मोदी का अपमान बिगाड़ेगा कांग्रेस...

पीएम मोदी का अपमान बिगाड़ेगा कांग्रेस का गेम, क्या मणिशंकर का गुनाह माफ़ करेगा गुजरात?

सात घंटे के अंदर मणिशंकर अय्यर पर कार्रवाई करके पार्टी का प्राथमिक सदस्यता से निलंबित करते हुए उन्हें कारण बताओ नोटिस जारी कर दिया गया। लेकिन इस बीच राजनीति की गंगा में बहुत पानी बह चुका था। अपने बयानों से कांग्रेस के लिए मुसीबत खड़ी करते रहने वाले म

Written by: India TV News Desk 08 Dec 2017, 8:04:22 IST
India TV News Desk

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर मणिशंकर अय्यर के बयान के बाद कांग्रेस ने अब डैमेज कंट्रोल की कोशिश शुरू कर दी है। आनन फानन में मणिशंकर अय्यर को कांग्रेस के प्राथमिक सदस्यता से निलंबित कर दिया है। अय्यर ने पीएम मोदी के लिए नीच शब्द का इस्तेमाल किया जिसके बाद कांग्रेस पार्टी में हड़कंप मच गया। बयान देने के सात घंटे के अंदर मणिशंकर को बाहर का रास्ता दिखा दिया गया।

सात घंटे के अंदर मणिशंकर अय्यर पर कार्रवाई करके पार्टी का प्राथमिक सदस्यता से निलंबित करते हुए उन्हें कारण बताओ नोटिस जारी कर दिया गया। लेकिन इस बीच राजनीति की गंगा में बहुत पानी बह चुका था। अपने बयानों से कांग्रेस के लिए मुसीबत खड़ी करते रहने वाले मणिशंकर अय्यर ने गुजरात में वोंटिग से 48 घंटे पहले पीएम का अपमान करके पूरी कांग्रेस पार्टी को हिला दिया।

इस बयान के बाद पीएम मोदी ने सूरत की रैली में गुजरात के लोगों से इस अपमान का बदला भाजपा को वोट देकर लेने की अपील की। मोदी ने कहा, कांग्रेस नेता ने मुझे नीच कहकर बुलाया। मैं भले नीच जाति का हूं लेकिन मैंने काम ऊंचे किए है। उन्होंने गुजरात की जनता से कहा कि 9 और 14 दिसंबर को गुजरात की जनता नीच कहने वालों को जवाब दे। कमल को वोट देकर ऊंचे काम करिए।

कांग्रेस के अध्यक्ष की कुर्सी संभालने जा रहे राहुल गांधी भी इस बयान के बाद पहले मणिशंकर अय्यर से माफी मांगने को कहा फिर पार्टी से स्सपेंड कर दिया। राहुल ने ट्वीट करके कहा कि श्री मणिशंकर अय्यर ने भारत के प्रधानमंत्री के लिए जिस लहजे और भाषा का प्रयोग किया है वह गलत है। कांग्रेस और मैं चाहते हैं कि वो अपने बयान के लिए माफ़ी मांगे।

राहुल गांधी के फरमान के बाद मणिशंकर अय्यर माफी मांगने तो आये लेकिन अगर मगर में खेल को ऐसा उलझाया कि बात बनने की बजाय और बिगड़ गई। मणिशंकर की माज़रत काम नहीं आई क्योकि इस बीच गुजरात की चुनावी बयार से लेकर सोशल मीडिया तक इस बयान से कांग्रेस की किरकिरी हो चुकी थी, आखिरकार मणिशंकर अय्यर को सस्पेंड करके कड़ा संदेश देने की कोशिश की गई।

इस बयान से कांग्रेस के साथ साथ उसके सहयोगी भी समझ गये कि गुजरात का गणित उल्टा पड़ सकता है, इसलिये बिहार में कांग्रेस के सहयोगी लालू प्रसाद यादव ने भी बेहद कड़ी प्रतिक्रिया दी। लालू ने मणिशंकर अय्यर की मानसिक स्थिति पर सवाल खड़ा कर दिया। मणिशंकर के बयान के बाद निशाने पर राहुल गांधी भी आ गये, भाजपा ने आरोप लगा दिया कि ये सब राहुल गांधी की सहमति से हुआ है।