1. Home
  2. भारत
  3. राजनीति
  4. कावेरी विवाद: तमिलनाडु में विपक्षी दलों...

कावेरी विवाद: तमिलनाडु में विपक्षी दलों ने किया रेल रोको प्रदर्शन

Bhasha 17 Oct 2016, 13:59:18
Bhasha

चेन्नई: तमिलनाडु में कावेरी मुद्दे पर किसानों के एक संघ की ओर से घोषित राज्यव्यापी रेल रोको प्रदर्शन में आज द्रमुक सहित विपक्षी दल भी शामिल हुए और केंद्र से कावेरी प्रबंधन बोर्ड (सीएमबी) की स्थापना का अनुरोध किया। चेन्नई और कावेरी के तटीय जिलों सहित राज्य के विभिन्न इलाकों में हुए प्रदर्शनों में कई लोगों ने हिस्सा लिया, जिनमें द्रमुक के कोषाध्यक्ष एवं तमिलनाडु विधानसभा में विपक्ष के नेता एमके स्टालिन भी शामिल थे। 

स्टालिन ने यहां के पेरम्बूर में निकाली गई जुलूस का नेतृत्व किया, जबकि तंजावुर तथा कुड्डलोर में अन्य के साथ रेल रोको प्रदर्शन करने वालों में वाम दल एवं एमडीएमके भी शामिल हुए। सभी प्रदर्शनकारियों को हिरासत में ले लिया गया। केंद्र से तत्काल सीएमबी के गठन का अनुरोध करते हुए किसानों के एक संघ ने आज से दो दिवसीय रेल रोको प्रदर्शन का आह्वान किया था। 

राज्य में स्थिति के आकलन के लिए उच्चतम न्यायालय की ओर से गठित एक उच्च स्तरीय तकनीकी दल के कावेरी तटीय क्षेत्र का मुआयना खत्म करने के कुछ दिनों बाद यह प्रदर्शन हुआ। दल ने कर्नाटक में भी कावेरी तटीय क्षेत्रों का मुआयना किया और यह दल आज शीर्ष अदालत में अपनी रिपोर्ट जमा कराएगा। कर्नाटक से कावेरी के जल को छोड़े जाने की मांग वाली तमिलनाडु सरकार की याचिका पर सुनवाई के दौरान शीर्ष अदालत ने इस दल का गठन किया था। 

इस बीच मदुरै से मिले समाचार के मुताबिक मदुरै और तिरूचिरापल्ली संभागों के बीच ट्रेन सेवा प्रभावित रही। सैकड़ों की तादाद में किसानों और विभिन्न राजनीति दलों के कार्यकर्ताओं ने विभिन्न स्थानों पर रेल यातायात रोकने का प्रयास किया और कावेरी प्रबंधन बोर्ड (सीएमबी) के गठन की मांग की। अधिकारियों ने बताया कि ट्रेन सेवाएं 10 मिनट से लेकर आधा घंटा तक की देरी से चलीं। 

रेल रोको अभियान के लिए दबाव डालने और यहां के रेलवे जंक्शन में घुसने की कोशिश कर रहे भारी तादाद में मौजूद विभिन्न विपक्षी दलों से संबंधी भीड़ को तितर बितर करने के लिए मदुरै सिटी पुलिस ने लाठीचार्ज किया। इस लाठीचार्ज में करीब पांच लोगों को मामूली चोटें आईं। दक्षिण भारतीय नदी जोड़ो आंदोलन के नेता अयाकन्नू के त्रिचूर-करूर खंड पर रेल पटरियों को बाधित करने के दौरान उन्हें कुदामुरूत्ती कुदिसाई में गिरफ्तार किया गया। कुदामुरूत्ती के पास ट्रेन रोकने लिए पार्टी सदस्यों और किसानों ने रेल की पटरी पर झोपड़ी बना दी थी। सैकड़ों द्रमुक कार्यकर्ताओं ने पुडुकोट्टई में ट्रेन यातायात बाधित किया। कुड्डलोर में 700 से अधिक किसानों और राजनीतिक दलों के कार्यकर्ताओं ने रेल रोको आंदोलन के तहत रेलवे स्टेशन में घुसने की कोशिश की, जिसके कारण पुलिस को भीड़ को तितर बितर करने के लिए हल्का लाठीचार्ज करना पड़ा। पुलिस ने बताया कि तकरीबन 300 लोगों को गिरफ्तार किया गया। 

इरोड जिला में इरोड रेलवे स्टेशन में घुसने की कोशिश कर रहे कई किसानों और विपक्षी पार्टी के कार्यकर्ताओं को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। इधर कोयंबटूर से मिली खबर के मुताबिक, कोयंबटूर, तिरूपुर और नीलगिरि जिलों में अलग अलग रेलवे स्टेशनों पर रेल रोको प्रदर्शन की कोशिश के दौरान विभिन्न राजनीतिक दलों से ढाई हजार से अधिक कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार किया गया। उच्चतम न्यायालय के निर्देशानुसार कावेरी प्रबंधन बोर्ड गठन से केंद्र के इनकार किए जाने के विरोध में ये प्रदर्शनकारी प्रदर्शन कर रहे थे। एमडीएमके, भाकपा, माकपा, वीसीके, तंताई पेरियार द्रविड़ कझगम और कुछ अन्य संगठनों के 600 से अधिक कार्यकर्ता शहर के रेलवे स्टेशन के पास इकट्ठा हो गए थे। उन्होंने बताया कि जैसे ही वे स्टेशन की ओर बढ़े उन्हें रोका गया जिससे धक्कामुक्की की स्थिति पैदा हो गई। बहरहाल, पुलिस ने बताया कि सभी कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार कर लिया गया। इसके अलावा, कोयंबटूर जिला में पोलाची, मेट्टूपलयम और सुलूर रेलवे स्टेशनों पर भी कई गिरफ्तारियां की गईं।