1. Home
  2. भारत
  3. राजनीति
  4. कांग्रेस से गठबंधन के सवाल पर...

कांग्रेस से गठबंधन के सवाल पर ओडिशा के CM नवीन पटनायक ने कही यह बात

ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने मंगलवार को बीजू जनता दल व कांग्रेस के बीच गठबंधन को लेकर अपने रुख के बारे में बता दिया है...

Reported by: IANS 24 Oct 2017, 20:47:30 IST
IANS

भुवनेश्वर: ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने मंगलवार को बीजू जनता दलकांग्रेस के बीच गठबंधन को लेकर लगाई जा रही सभी अटकलों पर विराम लगा दिया। पटनायक ने कहा कि उनकी पार्टी कांग्रेस और भारतीय जनता पार्टी, दोनों से ही समान दूरी बनाए रखेगी। बीजू जनता दल (BJD) के अध्यक्ष नवीन पटनायक ने ट्वीट कर कहा, ‘BJD, कांग्रेस और BJP से समान दूरी बनाए रखेगी। हम यहां लोगों की दुआओं के साथ ओडिशा के अधिकार के लिए अपनी लड़ाई जारी रखेंगे।’ मुख्यमंत्री का बयान BJD उपाध्यक्ष और कृषि मंत्री दामोदर राउत के बयान के एक दिन बाद आया है जिसमें उन्होंने कहा था कि BJP जैसे भगवा मोर्चे को राज्य से बाहर रखने के लिए सत्ताधारी पार्टी किसी के भी साथ गठबंधन पर विचार के लिए तैयार है।

राउत ने सोमवार को कहा था, ‘कांग्रेस एक धर्मनिरपेक्ष पार्टी है। हमारी विचारधारा भगवा पार्टी से अलग है लेकिन कांग्रेस से हमारा कोई वैचारिक मतभेद नहीं है। वह सिर्फ हमारे राजनीतिक प्रतिद्वंद्वी हैं। समय आ गया है ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने मंगलवार को बीजू जनता दल व कांग्रेस के बीच गठबंधन को लेकर अपने रुख के बारे में बता दिया है...कि सभी गैर भाजपा दलों और सांप्रादयिकता विरोधी राजनीतिक संगठनों को एक हो जाना चाहिए।’ हालांकि कृषि मंत्री ने मंगलवार को अपना रुख स्पष्ट करते हुए कहा कि BJD विपक्षी दलों से दूरी बनाए रखेगी और उनका गठबंधन का सुझाव केवल BJP को हराने के संदर्भ में दिया गया था। राउत ने कहा, ‘मैं ओडिशा की उपेक्षा के लिए हमेशा से कांग्रेस के खिलाफ रहा हूं।’

इस बीच, प्रदेश कांग्रेस कमेटी (PCC) के पूर्व अध्यक्ष निरंजन पटनायक ने कहा कि सत्तारूढ़ बीजद पर पिछले रिकॉर्ड को देखते हुए भरोसा नहीं किया जा सकता। उन्होंने कहा कि बीजद में पार्टी के नेताओं को यह तय करना है कि गठबंधन होना चाहिए है या नहीं। हालांकि, अगर कोई पिछले रिकॉर्ड को मानता है तो उनका भरोसा नहीं किया जा सकता है। उन्होंने 2009 के चुनावों से पहले भाजपा को धोखा दिया था और हाल ही में हुए राष्ट्रपति चुनाव के दौरान भगवा पार्टी का समर्थन किया। उन पर भरोसा नहीं किया जा सकता।