1. Home
  2. भारत
  3. राजनीति
  4. सिद्धू के टीवी शो करने पर...

सिद्धू के टीवी शो करने पर कानूनी राय लेंगे अमरिंदर

India TV News Desk 21 Mar 2017, 14:24:23
India TV News Desk

चंडीगढ़: पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह इस मामले पर कानूनी राय लेंगे कि क्या उनके मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू टेलीविजन पर एक मशहूर कॉमेडी शो पर सेलिब्रिटी-जज बने रह सकते हैं या नहीं। सिंह ने एक टीवी न्यूज चैनल को बताया कि वह द कपिल शर्मा शो पर सिद्धू के सेलिब्रिटी-जज बने रहने को लेकर एडवोकेट जनरल से अपनी राय देने के लिए कहेंगे। सिंह ने चैनल से कहा, मैं नहीं जानता कि इस मामले पर संविधान या कानून क्या कहता है। हम एडवोकेट जनरल से इस पर उनकी राय रखने के लिए कहेंगे कि क्या कोई व्यक्ति जो मंत्री है, वह वो काम कर सकता है तो वह करना चाहता है।

उन्होंने कहा, यह पूरी तरह से कानूनी राय पर निर्भर करेगा और फिर मैं इस बारे में नवजोत सिंह सिद्धू को सूचित करंगा। सच कहूं तो मैं नहीं जानता कि क्या यह हितों के टकराव का मामला है। जब मुझे उनकी :एडवोकेट जनरल और कानूनी विशेषग्यों की राय मिलेगी, तो मैं उनसे बात करंगा। उप मुख्यमंत्री के पद की दौड़ में सबसे आगे चल रहे माने जा रहे सिद्धू को एक मामूली विभाग दिया गया है। उन्हें पर्यटन और संस्कृति मंत्री बनाया गया है।

सिद्धू ने कहा था कि वह कॉमेडी नाइट्स विद कपिल शर्मा का हिस्सा बने रहेंगे। सिद्धू ने कहा था, 'अगर मुझे समस्या नहीं है तो आप लोग क्यों चिंता कर रहे हो। अगर मुझे शो करना होगा तो मैं यहां (पंजाब) से 3 बजे निकलूंगा और सुबह किसी के भी उठने से पहले वापस आ जाऊंगा।'

मंत्री पद संभालने के बाद सिद्धू ने कहा, 'इस बात को लेकर बहुत चर्चा हुई कि सिद्धू ये बनेगा, वो बनेगा। लोगों की कामनाओं और इरादों के लिए मैं उनका शुक्रगुजार हूं। हालांकि मैं इन चीजों से हमेशा दूर रहा।'

उनको उपमुख्यमंत्री बनाये जाने से जुड़ी अटकलों के बारे में पूछे जाने पर सिद्धू ने कहा, 'अगर कैप्टन :अमरिंदर सिंह: मुझे विधायक के रूप में काम करने को भी कहते तो मैं वैसा करता।'

उन्होंने कहा, 'कैप्टन साहब, राहुल जी और प्रियंका जी ने मेरे लिए जो कुछ भी सोचा, मैं उससे खुश हूं और वह मेरे अनुकूल है। मैं राज्य को सही पटरी पर ले जाने के लिए आया हूं। मैं कोई निजी हित साधने के लिए यहां नहीं आया हूं।'

भाजपा के पूर्व सांसद ने कहा कि भगवा दल ने वर्ष 2014 के लोकसभा चुनाव में उनको कुरूक्षेत्र, चंडीगढ़ और पश्चिमी दिल्ली संसदीय क्षेत्र से चुनाव लड़ने की पेशकश की थी। पूर्व क्रिकेटर ने कहा कि राज्यसभा की सीट उनके लिए मायने नहीं रखती थी और इसी कारण उनको पार्टी छोड़नी पड़ी।