1. Home
  2. भारत
  3. राष्ट्रीय
  4. घूंघट में महिला डॉन, रंक...

घूंघट में महिला डॉन, रंक से बनी अंडरवर्ल्ड की रानी

India TV News Desk 15 Oct 2016, 17:08:51
India TV News Desk

नई दिल्ली: घूघंट जिसे भारतीय नारी का सम्मान और अस्तित्व माना जाता है। समाज में माना जाता है कि जो महिला अपने बड़ो को घूघंट न करें। वो संस्कारी बहू नहीं है। उसका संस्कार घूंघट से जाना जाता है, लेकिन हम आपको एक ऐसी खबर बता रहे है जिसे सून आप टौक जाएंगे। जी हां दुनिया की एक ऐसी डॉन महिला जो घूंघट के आड़ में साजिशों को अंजाम देती है और इसी घूंघट से पुलिस को चकमा देती है।

घूंघट वाली लेडी के नाम से फेमस इस महिला का आज तक किसी ने चेहरा नहीं देखा है। सिर्फ इसके नाम से ही बड़े से बड़ा अपराधी कांप जाता है। कुछ ही सालों में चार-बाई चार की कोठरी में रहने वाली यह महिला आलिशान कोठी की मालकिन बन गई। इतना ही उसकी कोठी के बाहर खड़ी लग्जरी गाडियों का काफिला देखकर लोगों की आंखें चौंधिया जाती थी। साथ ही ये सवाल आ जाता था कि आखिर इस महिला के पास इतनी संपत्ति आई कहां से।

घूंघट वाली डॉन के नाम से करती थी तस्करी
राजस्थान की पुलिस को इस घूंघट वाली डॉन को ढूढ़ने में पसीने छूट गए थे। वह एक ऐसी महिला को सर्च कर रहे थे। जो कि एक अदृश्य महिला जैसी थी। इस महिला का आज तक किसी ने चेहरा नहीं देखा था। यह है राजस्थान की सुमता उर्फ सुनीता विश्नोई। जिसकी इजाजत के बिना पत्ता तक नहीं हिलता। सुमता अफीम, चरस, शराब और ना मालूम कौन-कौन से नशीले जहर की स्मगलिंग किया करती थी। साथ ही वह केवल चौथी पास है।

किसी को इस बात का अंदाजा भी नहीं था कि पर्दे के पीछे बैठकर ये लेडी नशे का सिंडिकेट चला रही है। यह पुलिस की सोच से हजार कदम आगे चलती थी। सुमना ने अपनी इसी कोठी को तस्करी का हेडक्वार्टर बना रखा था। यही वजह थी कि इस आलीशान कोठी में दाखिल होने से पुलिसवाले भी कतराते थे। जबकि इसी कोठी से पूरे राजस्थान में नशीले जहर की सप्लाई हो रही थी और कोठी में मौजूद घूंघट वाली लेडी इस पूरे रैकेट की सरगना थी।

घूंघट लेकिन दिमाग शातिरों की तरह
सुमता बहुत ही शातिर दिमाग की महिला है। किसी को इस बात का पता भी न था कि वह अपनी कोठी से ये सब काले धंधे करती है। जभ भी पुलिस को एक छोटी सी भी इत्तला मिलती तो वह खोज में जूट जाती। पुलिस के पास सबूत के तौर पर चंद तस्वीरें थी (कई सारी तस्वीरें) उस फॉर्चूनर कार का नंबर था। जिसपर अपने आशिक के साथ सवार वो घूंघट वाली लेडी पुलिस के साथ आंख मिचौली खेल रही थी। इसके साथ वह नशे का सिडिंकेट इतने हाईटेक और सीक्रेट तरीके से ऑपरेट किया करती थी कि पुलिस लाख कोशिशों के बावजूद लेडी स्मगलर का सुराग लगाने में नाकाम थी, क्योंकि सुमता साजिश के तमाम सबूतों को मिटा देती थी।

ऐसे चलाथी थी नेटवर्क
चौथी पास सुमता ने ऐसा दिमाग लगाया कि पुलिस के भी पसीने छूट गए। वह घर बैठे ही मोबाइल एप की सहायता से पूरा काम करती थी। साथ ही अपनी कोठी के गोडाउन में सभी माल छुपाती थी। जानिए कैसे चलाती थी ये अपना नेटवर्क..

  • तस्करी में चोरी की गाड़ियों का इस्तेमाल होता था
  • गाड़ियों पर नजर रखने के लिए लगाया जीपीएस
  • घर बैठे मोबाइल एप के जरिए गुर्गों से कनेक्ट रहती
  • बड़ी डील के दौरान खुद हथियार लेकर एस्कॉर्ट करती
  • इतने हाईटेक तरीके से सुमता ड्रग्स रैकेट चला रही थी कि राजस्थान पुलिस को लंबे वक्त तक भनक नहीं लगी। कई बार पुलिस ने जाल बिछाया, लेनिक नतीजा कुछ नहीं निकल पाता था।

ऐसे हुई घूंघट वाली डॉन बेनकाब
लेडी स्मगलर जिस हाईटेक तकनीक से पुलिस को चकमा दे रही थी। उसी हाईटेक तकनीक की मुखबरी से घूंघट वाली इस लेडी स्मगलर का चेहरा बेनकाब हो गया।
पहली बार पुलिस लेडी स्मगलर की एक गाड़ी को पकड़ने में कामयाब रही और उसी गाड़ी में लगे जीपीएस ने इस शातिर लेडी का पता चला। जिसके बाद वह और उसके पांच साथियों को गिरफ्तार कर लिया गया है।

पूछताछ के दौरान सुमता के गुर्गों ने पुलिस को कई चौका देने वाले खुलासे किए। इस खुलासे में ये बात सामने आई कि सुमता के गैंग में 50 से ज्यादा गुर्गे शामिल है और सभी गुर्गे मजह छह दिन में अपना सिम बदल लेते है। यह सबी सिम फर्जी कागजात पर खरीदे जाते है। दरअसल नंबर बदलने का खेल पुलिस को चकमा देने के लिए किया जाता था।

हो सकते है बड़े-बड़े कनेक्शन
पुलिस ने इस महिला को पकड़ एक बड़ी कामयाबी हासिल की है। यह पूरा धंधा सफेदपोशों और खादी वर्दी वाले दोस्तों की मदद से चला रही थी। अभी ये सामने नहीं आया गै कि आखिर वो लोग है कौन।

देखे वीडियो-