1. Home
  2. भारत
  3. राष्ट्रीय
  4. #SurgicalStrike पर इशारों में बोले PM-सेना...

#SurgicalStrike पर इशारों में बोले PM-सेना बोलती नहीं पराक्रम दिखाती है

Khabarindiatv.com 14 Oct 2016, 19:30:08
Khabarindiatv.com

भोपाल: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि सेना बोलती नहीं पराक्रम दिखाती है। भारतीय सेना का विश्व शांति में जो योगदान है उसका पूरी दुनिया में सम्मान होता है।सेना लगातार जगकर हमारी रक्षा करती है इसलिए हमें भी जगे रहना होगा। प्रधानमंत्री ने भोपाल में शौर्य स्मारक के उद्घाटन के अवसर ये बातें कहीं। 

देश-दुनिया की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

हमारे रक्षा मंत्री भी नहीं बोलते हैं
भोपाल के लाल परेड ग्राउंड में एक सभा को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि सेना के पास शस्त्र से ताकत नहीं आती। सेना का सबसे बड़ा शस्त्र उसका मनोबल होता है। सवा सौ करोड़ देशवासियों का साथ मिलने से सेना का भी मनोबल बढ़ता है। सर्जिकल स्ट्राइक का जिक्र किए बिना प्रधानमंत्री ने कहा कि सेना बोलती नहीं पराक्रम करती है। उन्होंने कहा कि हमारे रक्षा मंत्री भी बोलते नहीं हैं। रोज हमारे बाल नोचे जाते थे कि मोदी कुछ बोलता नहीं।

हर संकट में सेना हमारे साथ
देश के अंदर जब कभी विषम हालात हुए भारतीय सेना ने अपने कर्तव्य का बखूबी निर्वाह किया। प्राकृतिक संकट में हर वक्त सेना हमारे साथ खड़ी रही। प्रधानमंत्री ने केदारनाथ आपदा का जिक्र करते हुए कि भीषण आपदा की हालत में सेना ने लोगों तक राहत पहुंचाई और जान बचाने का काम किया।

श्रीनगर में पत्थर मारनेवालों को भी सेना ने बचाया
प्रधानमंत्री ने श्रीनगर में आई बाढ़ का जिक्र करते हुए कहा कि उस भयंकर बाढ़ में सेना के जवानों ने लोगों को बचाने में अपने-आप को खपा दिया। सेना ने लोगों को बचाने में कभी यह नहीं सोचा हम जिन लोगों को बचा रहें ये कभी हमपर पत्थर मारते हैं। आंखें फोड़ देते हैं.. सर फोड़ देते हैं... लेकिन सेना ने मानवता की ललकार सुनी और इन लोगों को बचाने में कोई कसर नहीं छोड़ी। अपनी जान पर खेलते हुए श्रीनगर के लोगों को बचाने का काम किया।

हमारी चैन की नींद से सेना को संतोष मिलता है
सीमा पर हमारे जवान इसलिए अपनी जवानी खपा देते हैं ताकि हम चैन की नींद सो सकें। हमारे चैन की नींद से हमारी सेना को संतोष मिलता है। हमारे सोने पर उसके शिकायत नहीं होती लेकिन हम जागने के समय भी अगर सो जाते हैं तो यह शिकायत की बात है। वेदों में कहा गया है सतत जागते रहो। हमें भी जागने के समय जागते रहना होगा। 

पाक नागरिकों को भी सेना ने बचाने का काम किया
पूरी दुनिया में भारतीय सेना का कोई मुकाबला नहीं, विश्व में शांति के लिए जुटे शांति सैनिकों में सबसे ज्यादा सैनिक भारत के हैं। नैतिकता की धरातल पर भारतीय सेना ने पूरी दुनिया को जीतने का काम किया है। गल्फ के देशों में जब संकट पैदा हुआ तो भारतीय सेना ने भारतीय लोगों के साथ-साथ दुनिया के अन्य देशों के लोगों की जान बचाने का काम किया। यहां तक कि पाकिस्तान के लोगों को भी बचाकर लाने का काम भारतीय सेना ने किया। भारत ने कभी जमीन के लिए युद्ध नहीं किया। जीवन-मरण की जंग हुई तो भारतीय सेना कभी पीछे नहीं हटी। पहले और दूसरे विश्व युद्ध में डेढ़ लाख सैनिकों ने बलिदान दिया।

रामधारी सिंह दिनकर और माखनलाल चतुर्वेदी की कविता पढ़ी
पीएम ने कहा शौर्य स्मारक हमारे लिए तीर्थ है। लोग हमारे सैनिकों की जिंदगी से प्रेरणा लेंगे। कवियों ने भी वीर सैनिकों पर काफी कुछ लिखा। उन्होंने माखनलाल चतुर्वेदी की कविता का जिक्र करते हुए कहा- मुझे तोड़ लेना तुम वनमाली, उस पथ पर देना तुम फेंक, मातृभूमि पर शीश चढ़ाने जिस पथ जाएं वीर अनेक।
रामधारी सिंह दिनकर की कविता का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा- कलम आज उनकी जय बोल.. जला अस्थियां बारी-बारी..  छिटकाई जिनने चिंगारी.... चढ़ गए जो पुण्यवेदी पर... लिए बिना गर्दन का मोल... कलम आज उनकी जय बोल

तालियों के साथ करें सैनिकों का सम्मान
विदेशों में लोग सैनिकों का काफी सम्मान करते हैं। सैनिक जहां से भी गुजरते हैं लोग खड़े हो जाते हैं तालियों के साथ उनका स्वागत करते हैं। प्रधानमंत्री ने लोगों से सवाल किया कि क्या हम अपने देश में यह स्वभाव बना सकते हैं। उन्होंने कहा कि चौबिसों घंटे उनके प्रति आदर और भक्तिभाव रहना चाहिए। फौजियों को आते-जाते देखें तो तालियों से उनका स्वागत करें। फौजी के जीवन पर इसका सबसे बड़ा प्रभाव होता है। प्रधानमंत्री कहा कि शौर्य स्मारक आनेवाली पीढ़ियों को संस्कारित करने का  ओपन स्कूल है।

वन रैंक वन पेंशन का वादा पूरा किया
वन रैंक वन पेंशन का वादा पूरा किया। इसे चार किस्त में देने का फैसला किया है। सरकार पर भारी आर्थिक बोझ है। साढ़े पांच हजार करोड़ वितरित हो चुके हैं। 
सातवां पे कमिशन ने कहा है कि छठे पे कमीशन से 2.75 गुना बढ़ाया जाए। लेकिन हमने कहा कि छठे पे कमिशन के आधार पर फौज को कम फायदा होगा। ओआरओपी के आधार पर सेवंथ पे कमिशन मिलेगा। इससे ज्यादा फायदा होगा।

आगे देखिए ​पीएम का पूरा भाषण