1. Home
  2. भारत
  3. राष्ट्रीय
  4. ट्रेन हादसे में घायल 102 यात्रियों...

ट्रेन हादसे में घायल 102 यात्रियों का मेरठ, मुजफ्फरनगर के अस्पतालों में हो रहा है इलाज

Edited by: India TV News Desk 20 Aug 2017, 19:14:14 IST
India TV News Desk

लखनऊ: मुजफ्फरनगर रेल हादसे के बाद उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा घटनास्थल पर भेजे गये कैबिनेट मंत्री सतीश महाना ने आज बताया कि 50 से अधिक यात्री अस्पतालों में उपचार के बाद अपने घर रवाना हो गये हैं। अस्पतालों में अब 102 घायल यात्री बचे हैं जिनका नि:शुल्क इलाज किया जा रहा है। यहीं नहीं उनके परिजनों के खाने पीने का सभी इंतजाम प्रदेश सरकार द्वारा किया जा रहा है।

कल शाम मुजफ्फरनगर के खतौली के पास कलिंग उत्कल एक्सप्रेस दुर्घटनाग्रस्त हो गयी थी जिसमें 20 से अधिक यात्रियों की मौत हो गयी थी और 150 से अधिक यात्री घायल हो गये थे। घटना की जानकारी मिलते ही मुख्यमंत्री योगी ने राज्य के कैबिनेट मंत्री सतीश महाना को मुजफ्फरनगर रवाना किया था।

महाना ने आज मुजफ्फरनगर से भाषा को टेलीफोन पर बताया कि वह मुख्यमंत्री के निर्देश पर कल रात दस बजे मुजफ्फरनगर स्थित घटनास्थल पर पहुंच गये थे । पुलिस प्रशासन और रेलवे की मदद से राहत और बचाव कार्यक्रम चलता रहा। आज 50 से अधिक घायल यात्रियों को उपचार के बाद सरकार की मदद से उनके घर वापस भेज दिया गया। इस सभी को कम चोटें आयी थीं। प्रदेश सरकार द्वारा यात्रियों और उनके परिजनों को उनके गंतव्य तक पहुंचाने में मदद की गयी।

उन्होंने बताया कि मुजफ्फरनगर और मेरठ के पांच सरकारी और निजी अस्पतालों में अभी 102 घायल यात्रियों का इलाज किया जा रहा है। इन यात्रियों को सभी दवायें और परीक्षण पूरी तरह से नि:शुल्क किये जा रहे हैं। यात्रियों के इलाज में कोई कोताही नहीं बरती जा रही है। जिन यात्रियों के परिजन मुजफ्फरनगर पहुंच गये हैं उनके रहने और खाने-पीने का पूरा इंतजाम प्रदेश सरकार द्वारा किया जा रहा है।

उन्होंने कहा जो घायल यात्री अपनी हालत को बेहतर बता रहे थे उन्हें उनके घर पहुंचाने की व्यवस्था प्रदेश सरकार कर रही है। महाना ने कहा कि वह खुद एक-एक घायल यात्री और उसके परिजनों से मिल रहे हैं और उनको किसी तरह की कोई परेशानी न हो इसके लिए अधिकारियों को आवश्यक निर्देश दे रहे हैं।

पहचान कर लिये गए शवों को पोस्टमार्टम के बाद उनके परिजनों को सौंपने और घर पहुंचाने की भी व्यवस्था की गयी है। मुजफ्फरनगर और मेरठ के पुलिस प्रशासनिक और रेलवे अधिकारी पूरी मुस्तैदी से अपना काम कर रहे हैं।