1. Home
  2. भारत
  3. राष्ट्रीय
  4. अगर आज इतने कम समय में...

अगर आज इतने कम समय में इस योजना का भूमिपूजन हो रहा है तो इसका पूरा श्रेय शिंजो आबे को जाता है: मोदी

Written by: India TV News Desk 14 Sep 2017, 11:25:26 IST
India TV News Desk

नई दिल्ली: अहमदाबाद से मुंबई के बीच साढ़े तीन सौ किलोमीटर की रफ्तार से दौड़ने वाली बुलेट ट्रेन नेटवर्क का आज शिलान्यास हुआ। पीएम मोदी और शिंजो आबे अहमदाबाद में बुलेट ट्रेन की नींव रखी जिसके बाद हिन्दुस्तान में बुलेट युग का हो गया है। जापान के सहयोग से 110 हजार करोड़ की लागत से बनने वाले बुलेट ट्रेन नेटवर्क के 15 अगस्त 2022 से चालू होने का लक्ष्य तय किया गया है। ये भी पढ़ें: PM मोदी पहली बार देश की किसी मस्जिद में गए, शिंजो आबे के बने गाइड

भारतीय रेल हादसों की वजह से बदनाम है। ऐसे में पीएम मोदी चाहते थे कि देश में जब बुलेट ट्रेन की शुरुआत हो तो उसपर किसी तरह का दाग़ ना लगे इसलिए उन्होंने बुलेट ट्रेन की ऐसी तकनीक की तलाश की जिसका इस मामले में ट्रैक रिकॉर्ड अच्छा है। अपनी पिछली जापान यात्रा के दौरान खुद पीएम मोदी ने शिंजो आबे के साथ बुलेट ट्रेन में सफर किया।

लाइव अपडेट्स

-कोई ऐसा बैंक नहीं मिल सकता जैसा दोस्त जापान के रूप में भारत को मिला है: पीएम नरेंद्र मोदी


-आज यूरोप से लेकर चीन तक हाई स्पीड रेल न सिर्फ आर्थिक बल्कि सामाजिक परिवर्तन में एक अहम भूमिका निभा रही है: पीएम नरेंद्र मोदी
-जो लोग अमेरिका के इतिहास को जानते हैं उन्हें पता है कि रेलवे जाने के बाद कैसे वहां आर्थिक प्रगति शुरू हुई: पीएम नरेंद्र मोदी
-किसी भी देश के विकास में यातायात एक महत्वपूर्ण योगदान देती है: पीएम नरेंद्र मोदी
-मानव सभ्यता का इतिहास यातायात से जुड़ा हुआ है: पीएम नरेंद्र मोदी
-अगर आज इतने कम समय में इस योजना का भूमिपूजन हो रहा है तो इसका पूरा श्रेय शिंजो आबे को जाता है: नरेंद्र मोदी
-अपने करीबी मित्र शिंजो आबे का मैं भारत और गुजरात की धरती पर स्वागत करता हूं:पीएम मोदी
-प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कर रहें हैं संबोधन

-शिंजो आबे ने अपने भाषण का अंत हिन्दी में 'धन्यवाद' के साथ किया
-ठीक 10 साल पहले मुझे भारत की संससद में भाषण देने का मौका मिला था। जापान और भारत की रिश्तेदारी हिंद और प्रशांत माहासागर का संगम है: शिंजो आबे


-आज का दिन एक ऐतिहासिक दिन है: शिंजो आबे
-जापान के पीएम शिंजो आबे ने नमस्कार कह कर अपना संबोधन शुरू किया
-पीएम मोदी और पीएम शिंजो आबे ने अहमदाबाद में रखी बुलेट ट्रेन की आधारशिला

-आज सिर्फ बुलेट ट्रेन की ही नहीं बल्कि नए भारत की नींव भी रखी जा रही है: देवेंद्र फडणवीस
-बुलेट ट्रेन जैसे प्रॉजेक्ट प्रधानमंत्री मोदी जी के मेक इन इंडिया जैसी योजनाओं को भी बढ़ावा देगा: रेल मंत्री, पीयूष गोयल
-इस परियोजन से मेक इन इंडिया को बढ़ावा मिलेगा और लोगों को रोजगार भी मिलेगा: रेल मंत्री, पीयूष गोयल
-रेल यात्रा की घटना से ही महात्मा गांधी को प्रेरणा मिली थी: रेल मंत्री, पीयूष गोयल
-ये बुलेट ट्रेन जापान और भारत के लोगों के बीच भाईचारे का प्रतीक बन रही है: रेल मंत्री, पीयूष गोयल
-पीएम मोदी और पीएम शिंजो आबे बुलेट ट्रेन के प्रॉजेक्ट की नींव रखने से पहले मॉडल का कर रहे हैं अवलोकन
-पीएम मोदी और शिंजो आबे अहमदाबाद में बुलेट ट्रेन की नींव रखने स्टेडियम पहुंचे
-पीएम मोदी बुलेट ट्रेन के शिलान्यास को लिए स्टेडियम पहुंचे
-थोड़ी ही देर में शुरू होगा बुलेट ट्रेन के शिलान्यास का कार्यक्रम

जापान की शिनकानसेन बुलेट ट्रेन 350 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से दौड़ती है। भारत में भी अगस्त 2022 से जब ये ट्रेन दौड़ना शुरू करेगी तो इसकी अधिकतम रफ्तार साढ़े तीन सौ किलोमीटर प्रति घंटे ही रहेगी। फिलहाल अहमदाबाद से मुंबई के बीच 508 किलोमीटर की दूरी तय करने में सुपरफास्ट ट्रेन को आठ घंटे लगते हैं लेकिन बुलेट ट्रेन से इस दूरी को महज़ दो घंटे में पूरा कर लिया जाएगा।

मोदी-आबे का कार्यक्रम
-सुबह 9.45 बजे: बुलेट ट्रेन का शिलान्यास
-दोपहर 12 बजे: महात्मा मंदिर के पास डांडी कुटीर जाएंगे
-दोपहर 1 बजे: इंडो-जापान सेमिनार, एमओयू पर दस्तखत, दोनों पीएम की ज्वाइंट प्रेस कॉन्फ्रेंस
-दोपहर 1:30 बजे: डेलिगेशन लेवल का लंच
-दोपहर 2:30 बजे: भारत-जापान के उद्योगपतियों के साथ बैठक
-दोपहर 3:45 बजे: डेलिगेशन लेवल की बातचीत
-शाम 4 बजे: इंडिया-जापान बिज़नेस प्लानिंग पर चर्चा
-रात 8.25: साइंस सिटी में डिनर
-रात 9:20 बजे: शिंजो आबे अहमदाबाद से रवाना

भारत में बुलेट ट्रेन की शुरुआत कोई आसान बात नहीं थी क्योंकि इसके लिए तकनीक के साथ-साथ मोटी रकम की जरूरत थी। चीन, स्पेन, फ्रांस समेत दुनिया के कई देश तकनीक देने को तो राजी थे लेकिन निवेश करने को तैयार नहीं थे। ऐसे वक्त में जापानी पीएम शिंजो आबे आगे आए।

बता दें कि अहमदाबाद-मुंबई बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट की लागत 1 लाख 10 हज़ार करोड़ है। जापान बुलेट ट्रेन के लिए 88 हज़ार करोड़ का लोन दे रहा है और वो भी 50 साल के लिए सिर्फ 0.1 फीसदी ब्याज दर पर। पहली बुलेट ट्रेन को जापान से आयात किया जाएगा। इसके साथ ही जापान भारत को बुलेट ट्रेन की तकनीक भी मुहैया कराएगा जिससे आने वाले दिनों में बाकी बुलेट ट्रेन मेक इन इंडिया के तहत भारत में ही बनेगी।

प्रधानमंत्री मोदी की मौजूदगी में जापान के पीएम शिंजो आबे अहमदाबाद से मुंबई के बीच आज जिस बुलेट ट्रेन की आधारशीला रखेंगे वो 15 अगस्त 2022 से पटरी पर दौड़ने लगेगी लेकिन ये सिलसिला यहीं नहीं रुकेगा। इसके बाद दिल्ली – कोलकाता, दिल्ली – मुंबई, दिल्ली – चंडीगढ़, दिल्ली – नागपुर, मुंबई – चेन्नई और मुंबई – नागपुर के बीच भी बुलेट ट्रेन दौड़ाने की योजना है।