1. Home
  2. भारत
  3. राष्ट्रीय
  4. GST, नोटबंदी पर पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र...

GST, नोटबंदी पर पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान बोले, 'नया जूता भी काटता है'

केंद्रीय पेट्रोलियम व प्राकृतिक गैस मंत्री धर्मेद्र प्रधान ने मंगलवार को GST और नोटबंदी का जिक्र करते हुए कहा कि 'नया जूता भी तीन दिन काटता है, फिर सैटल हो जाता है।'

Edited by: Khabarindiatv.com 24 Oct 2017, 20:39:13 IST
Khabarindiatv.com

इंदौर/उज्जैन: केंद्रीय पेट्रोलियम व प्राकृतिक गैस मंत्री धर्मेद्र प्रधान ने मंगलवार को GST और नोटबंदी का जिक्र करते हुए कहा कि 'नया जूता भी तीन दिन काटता है, फिर सैटल हो जाता है।' मध्यप्रदेश के एक दिवसीय दौरे पर आए धर्मेंद्र प्रधान ने इंदौर में संवाददाताओं के सवालों का जवाब देते हुए यह माना कि नोटबंदी व GST से शुरुआत में लोगों को दिक्कत हुई और कहा, "GST हो या नोटबंदी, इसको लेकर रोजगार प्रभावित होने की जो हवा खड़ी की गई, वह ठीक नहीं है। आप भी जब नया जूता पहनते हैं, तो शुरू में तीन दिन वह काटता है और चौथे दिन सैटल हो जाता है।"

कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी द्वारा जीएसटी को 'गब्बर सिंह टैक्स' बताए जाने पर प्रतिक्रिया देते हुए उन्होंने कहा, 'भगवान से प्रार्थना करूंगा कि उन्हें सदबुद्धि दे, उनकी सरकारों ने GST लाने की बहुत कोशिशें कीं, पिछले दिनों तक उन्हें यह परेशानी थी कि उनकी पार्टी को श्रेय क्यों नहीं दिया जा रहा, हमने तो उन्हें श्रेय दिया है।' राहुल गांधी का नाम लिए बिना प्रधान ने उनके पिछले बयान का हवाला देते हुए कहा, "जो व्यक्ति अपनी ही पार्टी के प्रधानमंत्री को नॉनसेंस कह दे, वह कुछ भी कह सकता है। वह इस तरह के शब्दों के प्रयोग के आदी हैं, भारत की जनता उन्हें समझ चुकी है।"

प्रधान इससे पहले, उज्जैन पहुंचे और अपनी पत्नी के साथ महाकाल के दरबार में पूजा-अर्चना की, पंचामृत से शिवलिंग को स्नान कराया और फूल चढ़ाए। यहां संवाददाताओं द्वारा GST को लेकर राहुल गांधी के बयान पर प्रतिक्रिया मांगे जाने पर उन्होंने कहा, 'जो लोग हताश, निराश हो जाते हैं, वे असभ्यता और गाली-गलौज की भाषा पर उतर आते हैं। उन्हें देश की राजनीति का ज्ञान नहीं है, समझ नहीं है, गुजरात की जनता उन्हें सबक सिखाएगी।' उन्होंने आगे कहा, "ये वे लोग हैं, जिन्होंने पीढ़ी दर पीढ़ी शासन करके इस देश को बर्बाद किया है और अभी वे घड़ियाली आंसू बहा रहे हैं। उन्हें जनता भली-भांति समझती है।"