1. Home
  2. भारत
  3. राष्ट्रीय
  4. आरबीआई के पूर्व गर्वनर रघुराम राजन...

आरबीआई के पूर्व गर्वनर रघुराम राजन अब बनेंगे अमेरिकी फेडरल रिजर्व के प्रमुख?

साल 2013 में राजन आरबीआई के प्रमुख ऐसे समय में बने थे, जब रुपया की कीमत गिरती जा रही थी और महंगाई उफान पर थी। अफसोस कि दो अंकों की मुद्रास्फीति पर काबू पाने के बावजूद उन्हें दूसरा कार्यकाल नहीं दिया गया। राजन ने पिछले साल 8 नवंबर को प्रधानमंत्री नरें

Reported by: IANS 01 Nov 2017, 7:37:15 IST
IANS

नई दिल्ली: वैश्विक वित्तीय पत्रिका 'बैरोन' ने भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) के पूर्व गर्वनर रघुराम राजन को अमेरिकी फेडरल रिजर्व का प्रमुख चुने जाने के उपयुक्त बताया है। बैरोन पत्रिका में प्रकाशित एक लेख में राजन को अमेरिका के केंद्रीय बैंक का अगले अध्यक्ष चुनने की सिफारिश करते हुए कहा गया, "अगल कोई स्पोर्ट्स टीम दुनिया की सबसे अच्छी प्रतिभाओं की भर्ती कर सकती है, तो केंद्रीय बैंक क्यों नहीं?" अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप जल्द ही फेडरल रिजर्व की अध्यक्ष जेनेट एलेन की उत्तराधिकारी की घोषणा करेंगे, जिनका कार्यकाल अगले साल की शुरुआत में पूरा हो रहा है।

लेख में कहा गया, "फेडरल रिजर्व का नेतृत्व करनेवाले संभावित उम्मीदवारों की छोटी सूची में दुनिया के केंद्रीय बैंकों के उस वर्तमान सितारे का नाम कहीं नहीं है.. जिसने मुद्रास्फीति में तेज गिरावट, एक मुद्रा के स्थिरीकरण और शेयर कीमतों में 50 फीसदी की उछाल का निरीक्षण किया था।" इसमें कहा गया, "शायद अधिक महत्वपूर्ण यह है कि वह वित्तीय संकट की भविष्यवाणी करनेवाली इकलौती आवाज थी।"

लेख में कहा गया है कि ऐसे कई उदाहरण हैं, जब केंद्रीय बैंक का प्रमुख गैर-नागरिकों को बनाया गया था। कनाडा में जन्मे मार्क कारने को बैंक ऑफ इंग्लैंड का प्रमुख बनाया गया था। इसमें कहा गया, "कोई भी फेड के पद के लिए राजन के नाम का उल्लेख नहीं कर रहा है। हालांकि उन्हें अर्थशा में नोबेल पुरस्कार के लिए उम्मीदवारों में नामित किया गया था।"

साल 2013 में राजन आरबीआई के प्रमुख ऐसे समय में बने थे, जब रुपया की कीमत गिरती जा रही थी और महंगाई उफान पर थी। अफसोस कि दो अंकों की मुद्रास्फीति पर काबू पाने के बावजूद उन्हें दूसरा कार्यकाल नहीं दिया गया। राजन ने पिछले साल 8 नवंबर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा लागू की गई नोटबंदी के खिलाफ चेताया भी था।