1. Home
  2. भारत
  3. राष्ट्रीय
  4. PM मोदी ने चीन के सामने...

PM मोदी ने चीन के सामने PAK को धो डाला, कहा- 'हमारे पड़ोस में है आतंकवाद की जन्मभूमि'

India TV News Desk 16 Oct 2016, 19:46:56
India TV News Desk

नई दिल्ली: आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पाकिस्तान पर बड़ा प्रहार किया। गोवा में ब्रिक्स सम्मेलन के दौरान पीएम ने आतंकवाद की पनाहगाह पाकिस्तान को दुनिया के सामने बेनकाब कर दिया। पीएम ने कहा कि पूरी दुनिया में तेजी से आतंकवाद बहुत बड़ी चिंता का विषय है लेकिन इसके साथ ही ये बहुत दुख की बात है कि हमारे पड़ोस में आतंकवाद की जन्मभूमि है। पीएम ने पाकिस्तान को mothership of terrorism कह डाला। इसके साथ ही उन्होंने सभी ब्रिक्स देशों से आतंकवाद से मिलकर लड़ने की अपील की।

(देश-विदेश की बड़ी खबरें पढ़ने के लिए क्लिक करें)

पाकिस्तान है 'आतंकवाद की जन्मभूमि'

ब्रिक्स समिट में पीएम मोदी ने कहा कि हमारे क्षेत्र में शांति, सुरक्षा और विकास को आतंकवाद से बड़ा खतरा है। ये बहुत दुखद है कि आतंक की जन्मभूमि हमारे पड़ोस में है। दुनियाभर में फैले आतंक की कोई ना कोई कड़ी हमारे इस पड़ोसी देश से जुड़ती है। ये देश आतंकियों को ना सिर्फ पनाह देता है बल्कि आतंकी मानसिकता को बढ़ावा भी देता है। ये मानसिकता इस बात पर गर्व करती है कि राजनीतिक लक्ष्य को हासिल करने के लिए आतंकवाद का सहारा लेना सही है।

Also read:

उन्होंने कहा कि हम इस मानसिकता की कड़ी निंदा करते हैं लेकिन तेजी से बढ़ता आतंकवाद का दायरा हमारे देश के नागरिकों की ज़िंदगियों को खतरे में डाल रहा है और हमारी तरक्की में भी रोड़ा बन रहा है।

'आतंक से मिलकर लड़ने की ज़रूरत'

पीएम ने कहा, जिस दुनिया में आज रहते हैं, उसमें सिक्योरिटी और काउंटर टेररिज्म कोऑपरेशन बहुत जरूरी है, अगर हम अपने नागरिकों की ज़िंदगियों को सुरक्षित करना चाहते हैं। आतंकवाद हमारे विकास और आर्थिक समृद्धता पर काली छाया डालता है। ये ग्लोबल हो चुका है, ज्यादा घातक हो गया है और टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल करने लगा है। उन्होंने कहा जब पूरी दुनिया आतंकवाद के निशाने पर है, तो ऐसे वक्त में आतंकवाद को उखाड़ फेंकने के लिए उसे बढ़ावा देने वाले और आतंकियों को पनाह देने वालों के खिलाफ भी बिना किसी भेदभाव के एक्शन लिया जाना चाहिए।

'भेदभाव किए बिना व्यापक कार्रवाई हो'

उन्होंने कहा, आतकंवाद के खिलाफ हमारा जवाब बहुत व्यापक होना चाहिए। हमें अकेले भी और मिलकर भी काम करना होगा। आतंकवादियों, उनके समर्थकों और संस्थाओं के खिलाफ चुनिंदा कार्रवाई करना बेकार होगा इसलिए निजी स्वार्थ के आधार पर कोई भेदभाव नहीं होना चाहिए जो भी व्यक्ति और संस्थाएं आतंकवादी वारदात अंजाम देने के लिए जिम्मेदार हैं, उनके सफाये के लिए कदम उठाने के लिए सिर्फ क्रिमिनैलिटी ही एक आधार होना चाहिए।

'आतंक की फंडिंग पर रोक लगाई जाए'

पीएम मोदी ने ब्रिक्स समिट के दौरान आतंकियों की फंडिंग और उन्हें हथियार मुहैया कराए जाने का मुद्दा भी उठाया। उन्होंने कहा- अगर आतंकवाद का सफाया करना है, तो सबसे पहले आतंकियों को हो रही फंडिंग पर रोक लगानी होगी।

ब्रिक्स समिट के समापन के बाद घोषणा पत्र जारी

गोवा में हुई ब्रिक्स समिट के समापन के बाद घोषणा पत्र जारी किया गया जिसमें सभी देशों ने आपसी सहयोग बढ़ाने पर सहमति जताई। सभी ब्रिक्स देश आतंकवाद के खिलाफ कार्रवाई को लेकर एकजुट हैं।

  • आतंकवाद के खिलाफ कार्रवाई को लेकर ब्रिक्स देश एकजुट
  • भारत में हाल में हुए आतंकी हमलों की निंदा की गई
  • क्रॉस बॉर्डर टेररिज्म और इसके समर्थकों से मिलकर लड़ेंगे
  • आतंकवाद, उग्रवाद और बढ़ती कट्टरता पर चिंता
  • आतंकवादियों को पनाह देने वाले भी आतंकवादियों जैसे खतरनाक
  • आतंकियों की फंडिंग, हथियारों की सप्लाई पर रोक लगनी चाहिए