1. Home
  2. भारत
  3. राष्ट्रीय
  4. नोटबंदी: मणिपुर में गुस्साए ग्राहकों ने...

नोटबंदी: मणिपुर में गुस्साए ग्राहकों ने SBI शाखा में तोड़फोड़ की

IANS 28 Nov 2016, 17:57:46
IANS

इंफाल: बैंक में पैसे निकालने के लिए कतार में लगे ग्राहकों ने गुस्से में मणिपुर में भारतीय स्टेट बैंक की दो शाखाओं में उस समय तोड़फोड़ की, जब बैंक ने लोगों को 24,000 रुपये निकालने से मना कर दिया। एक बैंक की शाखा में हुई हिंसा में एक पुलिकर्मी को चोटें आई, जबकि दूसरी शाखा में बैंक की खिड़कियों को तोड़ दिया गया। दोनों ही जगहों पर बैंकों का कामकाज प्रभावित हुआ। इस मामले में अभी तक किसी की गिरफ्तारी नहीं हुई है।

(देश-विदेश की बड़ी खबरें पढ़ने के लिए क्लिक करें)

एसबीआई की मणिपुर विश्वविद्यालय स्थित शाखा के प्रबंधक प्रसाद जैन ने बताया, "परेशानी उस समय शुरू हुई, जब दो ग्राहकों ने बैंक से 24,000 रुपये निकालना चाहा।" नोटबंदी के बाद इतनी रकम हर हफ्ते बैंक से निकाली जा सकती है। प्रसाद ने कहा, "जब बैंक के वरिष्ठ अधिकारियों ने इतनी रकम देने से इनकार किया तो वे गुस्सा हो गए।"

एसबीआई के एक ग्राहक एन. बिरीयन ने कहा कि लोग सुबह से लाइन में खड़े थे, लेकिन उन्हें अचानक बताया गया कि वे केवल 2,000 रुपये ही निकाल सकते हैं। एक बुजुर्ग ग्राहक ने अपना नाम नहीं बताते हुए कहा, "2,000 रुपया तो बहुत छोटी रकम है। इतने से क्या होगा। हम क्या इतनी सी तुच्छ राशि के लिए इतने दिन से अपना वक्त बरबाद कर रहे हैं।"

प्रत्यक्षदर्शी ने बताया कि इसके बाद लोग आक्रोशित हो गए और बैंक में तोड़फोड़ करने लगे। मौके पर दंगारोधी पुलिस को बुलाया गया, तब जाकर स्थिति संभली। इस हिंसा में पुलिसकर्मी मुतुम श्यामो घायल हो गए।

ऐसी ही एक घटना एसबीआई की दूसरी शाखा में हुई जो इंफाल के पश्चिमी जिले लेइमाखोंग में हुई जहां बैंक कर्मियों के साथ ग्राहकों की नोकझोंक हुई। हालांकि सभी बैंक की शाखाओं में बंदूकधारी पुलिस बल की तैनाती की गई है। लेकिन अधिकारियों का कहना है कि नकदी की कमी के कारण ग्राहक गुस्सा हो रहे हैं और व्यवस्था बनाए रखने में मुश्किल हो रही है।

मणिपुर में हालांकि पहले भी बैंक कर्मियों और ग्राहकों के बीच नोकझोंक की घटनाएं सामने आई हैं, लेकिन यह पहली बार है, जब किसी बैंक में तोड़फोड़ की गई है। केंद्र सरकार द्वारा 8 नबंवर को 500 और 1000 रुपये के नोटों को चलन से बाहर कर देने के बाद देश भर में नकदी की भारी कमी हो गई है। कई बैंकों ने एकतरफा ढंग से ग्राहकों द्वारा उनकी रकम निकालने की सीमा निर्धारित कर दी है। आरबीआई का कहना है कि प्रत्येक व्यक्ति अपने एकाउंट से हर हफ्ते अधिकतम 24,000 रुपये निकाल सकता है।