1. Home
  2. भारत
  3. बिज़नेस
  4. ब्रिक्स देशों के बीच 2020 तक...

ब्रिक्स देशों के बीच 2020 तक 500 अरब डालर व्यापार का लक्ष्य हो: मोदी

IANS 17 Oct 2016, 8:24:02
IANS

बेनॉलिम (गोवा): प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को ब्रिक्स शिखर सम्मेलन के समापन से पहले सदस्य देशों से 2020 तक अपने बीच के व्यापार को बढ़ाकर 500 अरब डॉलर तक पहुंचाने का आह्वान किया। ब्रिक्स (ब्राजील, रूस, भारत, चीन और दक्षिण अफ्रीका) के नेताओं को संबोधित करते हुए मोदी ने कहा, "2015 में ब्रिक्स देशों के बीच व्यापार 250 अरब डालर का था। हमें इसे 2020 तक बढ़ाकर 500 अरब डालर करने का लक्ष्य रखना चाहिए।"

उन्होंने कहा, "इसके लिए जरूरी है कि सभी पांचों देशों के उद्यमी अपने संबंधों को और बढ़ाएं और सरकारें इसमें अपना पूरा सहयोग दें।"

उन्होंने कहा कि कर और सीमा शुल्क पर सहयोग का हमारा प्रारूप इस दिशा में एक अच्छी शुरुआत है।

मोदी ने कहा कि विश्व में मौजूद सुरक्षा चुनौतियों और आर्थिक अनिश्चितताओं के बीच ब्रिक्स शांति की रोशनी बनकर सामने आया है। इसने बीते साल वैश्विक परिवर्तन और विकास के एजेंडे के निर्धारण में बड़ी भूमिका निभाई।

उन्होंने कहा कि वैश्विक शासकीय निकायों में बदलाव के लिए ब्रिक्स अगुआई करता रहेगा। उन्होंने कहा कि ब्रिक्स को आज की वैश्विक हकीकत के अनुरूप वैश्विक शासकीय संस्थाओं को सशक्त बनाने के लिए भूमिका निभानी चाहिए। 

इससे पहले प्रधानमंत्री मोदी ने ब्रिक्स व्यापार परिषद से रविवार को आग्रह किया कि वह आपसी व्यापार को बढ़ावा देने के लिए सदस्य देशों के साथ मिल कर काम करे। उन्होंने कहा कि प्रथम ब्रिक्स व्यापार मेला जैसे समारोह व्यापारिक जागरूकता और वाणिज्यिक आदान-प्रदान बढ़ाने में मदद करते हैं।

मोदी ने कहा, "हम आपसी व्यापार बढ़ाने, व्यापार के अवसर बढ़ाने, निवेश संबंधों के निर्माण, नवाचार को बढ़ावा देने और अंतर ब्रिक्स वाणिज्य की बाधाएं दूर करने के हमारे साझा लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए ब्रिक्स व्यापार परिषद पर भरोसा करते हैं।" 

प्रधानमंत्री ने कहा, "भारत ने दो दिन पहले नई दिल्ली में पहले ब्रिक्स व्यापार मेले की मेजबानी की थी, जिनमें आप सभी देशों ने सक्रियता से भाग लिया। व्यापारिक जागरूकता बढ़ाने और वाणिज्यिक आदान-प्रदान के लिए ऐसी गतिविधियों को बढ़ावा दिया जाना चाहिए।"

इस अवसर पर ब्रिक्स व्यापार परिषद की रिपोर्ट भी पेश की गई। इसमें कहा गया है कि सदस्य देशों को उभरती अर्थव्यवस्थाओं की रेटिंग की नई व्यवस्था के लिए प्रयास और संवाद जारी रखने चाहिए।

परिषद ने ब्रिक्स एजेंडे में विस्तार करते हुए कृषि के क्षेत्र में सदस्य देशों के बीच सर्वश्रेष्ठ पद्धतियों के आदान-प्रदान के द्वारा व्यापारिक सहयोग बढ़ाने की जरूरत पर भी बल दिया।

परिषद को ब्रिक्स के न्यू डेवलपमेंट बैंक (एनडीबी) के अध्यक्ष के.वी. कामत ने भी संबोधित किया। उन्होंने कहा कि बैंक अगले साल 2.5 अरब डालर के अतिरिक्त राजस्व के लक्ष्य की दिशा में काम कर रहा है। उन्होंने कहा कि सदस्य देशों से बांड मार्केट से फंड इकट्ठा करने के लिए संपर्क किया जाएगा।

उन्होंने बाद में मीडिया से कहा कि एनडीबी ने अपना एक साल पूरा कर लिया है और इस दौरान उसने सदस्य देशों को अक्षय ऊर्जा के क्षेत्र में विकास के लिए करीब 91.1 करोड़ डालर का कर्ज मंजूर किया है।