1. Home
  2. Gallery
  3. Sports gallery
  4. राजकोट के राजाओं का विशाखापत्तनम में...
 

बांग्लादेश में जिस तरह स्पिनरों ने इंग्लैंड को नचाया उसे देखकर लगा था कि भारत-दौरे पर इंग्लिश नृत्य जारी रहेगा लेकिन पांच टेस्ट मैचों की सिरीज़ के पहले मैच में राजकोट में जिस तरह से इंग्लैंड ने भारतीय स्पिनरों को बेअसर कर दिखाया, उससे आशंकाएं बढ़ने लगीं। मैच के बाद कप्तान विराट कोहली ने पिच को कोसा और कहा कि विकेट पर ज़रुरत से ज़्यादा घास थी जो नहीं होनी चाहिये थी। भारक की ताक़त उसके स्पिनर्स हैं और वो भी ऐसे विकेट पर जहां बॉल पहले दिन न सही तो कम से कम दूसरे दिन से तो घूमें। विशाखापत्त्नम में भारत को मुंह मांगी मुराद मिली और सोने पर सुहागा तब हो गया जब सिक्का भी कोहली के पाले में गिर गया। पहले दिन बेजान विकेट पर कप्तान और चेतेश्वर पुजारा के शतक और अगले दिन कुछ और बल्लेबाज़ों के महत्वपूर्ण योगदान से भारत ने 455 का स्कोर खड़ा कर दिया। इस दौर तक पहुंचते-पहुंचते विकेट रंग दिखाना लगा था और अश्विन, जडेजा और जयंत का ख़ौफ़ तारी होने लगा था। दूसरे दिन का खेल ख़त्म होने तक इंग्लैंड की आधी टीम 103 के स्कोर पर पवैलियन में लौट गई। आईये देखते हैं राजकोट के राजाओं का विशाखापत्तनम में कैसे हुआ पतन।